एंकर बने बावरे-फकीरा के गायक आभास जोशी

स्टार वाइस ऑफ़ इंडिया के ताज के प्रबल दावेदार आभास के साथ जबलपुर ही नहीं समूचे मध्य-प्रदेश के सपनों को पंख लग चुके हैं मानो। आभास जोशी को स्टार प्लस के "छोटे-उस्ताद " संगीत शो के एंकर के रूप में चुना जाना आभास के सुयोग्य होनें का प्रमाण है।

आभास जोशी स्नेह मंच जबलपुर के गोविन्द दुबे जी - चहक उठे कुछ यूँ

''नूर कि एक किरण भी सब पर भारी होगी

रात तुम्हारी थी तो सुबह हमारी होगी ...!!"

हम सभी खुश हैं हमारी खुशी को हम नहीं बयान नहीं कर सकते

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!