26 अग॰ 2022

Over 1500 Baloch civilians missing from floods, 33 million homeless

    On the one hand, there is an atmosphere in Pakistan against Balochistan, Sindhudesh, Ahmadiyya, Hindu, minorities.On the other hand, this rain wreaked havoc in Balochistan and Sindhudesh.
  The administration of Pakistan was only seen sitting on its hands in these circumstances.The citizens of Sindhudesh Balochistan did not tell on social media - "Flood relief The government has not made any significant contribution in the flood relief work.
   The Chief Minister of Balochistan has proved unsuccessful in protecting its citizens.
  A Balochistan citizen claims that at least 1500 women, children and men have been washed away in the floods.
Pakistan, which makes big claims, remains silent on this tragedy of Balochistan. On the other hand,
What does the government of Pakistan say?
नवजीवन से साभार
According to the National Disaster Management Authority, 937 people have died and 33 million have been displaced since mid-June due to the record rains. The government has officially declared a flood
 The world famous Coke studio has also been hit by the floods. Balochistan singer Bugti has become homeless.
a citizen of Sindhudesh told that- "We are the participant of 70% of the economy of Pakistan. Despite this, Punjab province is being provided maximum facilities.
Baloch citizens are now openly saying that- "Pakistan's administration, Army ISI, all are working on the behest of China...!"
  They believe that China is eyeing the mineral wealth through Gwadar.
    Children are picked up from families simply on suspicion of being involved in the Balochistan liberation movement. Human rights violations in Pakistan for Balochistan Sindh Ahmadiyya and Pashto castes and minorities It is hardly happening anywhere in the present century.
   In the space held on Twitter, a citizen became very emotional and even prayed to the Government of India and especially the Prime Minister of India for a repeat of 1971.
You question arises that what is Pakistan, which supports the Muslim Brotherhood, ie Ummah, dealing with Muslims in its own country.
   It appears that the incident of 1971 in Pakistan may be a repeat.

19 जून 2022

The Brahmin Emperor Pushyamitra Shunga was a superhero and not a villain.


                

 Pushya Mitra Shunga (Founder of Shunga dynasty)

Birth - 185 BC Death - 149 BC in Patna now in Bihar

Successor - Aganimitra

Shunga-dynasty

Pushyamitra Shunga (185 - 149 BC)

Agnimitra (149 - 141 BC)

Vasujyeshtha (141 - 131 BC)

Vasumitra (131 - 124 BC)

Andhraka (124 - 122 BC)

Pulindak (122 - 119 BC)

Ghosh Shungavajrammitra Bhagabhadra Devabhuti (83 - 73 BC)

              185 BC, due to the administrative and weak system of the Maurya dynasty ruler Brihadutta, due to the excessive attachment to the Buddhist retirement path and the desire not to stop the conspiracy of the Greek king Demotrius, the general, Pushyamitra Shunga, killed Brahadatta in public and not by deceit. Facts Dr HC Raychaudhuri has written a clear account of the Shunga dynasty. Rahul Sankrityayan imagined that Pushyamitra Shunga might have been equated with Rama.

Due to this, a scholar, Vaman Meshram, president of BAMCEF, immediately in his expression called Pushyamitra Shunga as the king of Ayodhya. And they presented it in the public in a wrong way. This fact is clear in the video uploaded on YouTube on 5th March 2019 without study Vaman Meshram ji is presenting wrong facts.

It is very important to reconsider whatever has been shown in history against Pushyamitra Shunga, otherwise the neo-Buddhists and so-called Dalit thinkers will be paramount in disintegrating the Indian social structure at the present time.

At present you will find some such videos of Vaman Meshram in which he is heard saying that Pushyamitra Shunga was a cruel ruler who ended the low caste Maurya dynasty to establish Brahmin rule and Pushyamitra Shunga shifted his capital from Pataliputra to Ayodhya. and compared him with Maryada Purushottam Ram. This is completely fictional and a hypothesis of the author Rahul Sankrityayan from the Volga to the Ganges which he described in this way in the Prabha Kathayan of his work. (See Prabha Story 11 Time Period 50 AD Paperback Edition From the Volga to the Ganges, page number 161 paragraph two)

    “There is no doubt that in Ashvaghosha he relished the melodious poetry of Valmiki. It is no wonder that if Valmiki had been a dependent poet of the Sunga dynasty, such as Kalidasa of Chandragupta Vikramaditya and to increase the glory of the capital of the Sunga dynasty, he changed the capital of Dasaratha from Varanasi to Saket or Ayodhya and the emperor Pushyamitra or Agnimitra as Rama. Praised - in the same way as Kalidasa in Raghuvansh named Raghu and Kumarasambhava's father, son Chandragupta Vikramaditya and Kumaragupta.

A responsible writer who has wandered from street to street and has collected information that what this pen is writing is beyond comprehension. Although this is just a speculation, but one thing becomes clear from this statement that - "India's litterateur Rahul Sankrityayan has neither been honest with Indian history nor has been honest with literature and he has issued such a statement. You can confirm this on the video uploaded on YouTube on March 5, 2019, which started being misused by a study-less clumsy person like Vaman Meshram.

How can it be so that every ancient writing is true? Vaman Meshram has made a flawed statement with the aim of polarizing castes without any confirmation. It is not that this statement has been given only once. to get into.

Brihadatta was such an indolent ruler who has failed to protect the borders. General Pushyamitra Shunga had then received an information that - "Yavan soldiers are residing in Buddhist monasteries in the form of bhikkhus. And their aim is to establish Greek rule in India only and only. When Pushyamitra in this context from King When he discussed, the king's statement was that - "We will see when the time comes..!"

Nevertheless, Pushyamitra started the investigation of Buddhist monasteries. They found about 300 Yavana soldiers with weapons present in the monasteries. The Buddhist monk admitted that when he had assured him to become a Buddhist. Enraged by this, Pushyamitra Shunga beheaded the entire 300 young soldiers and arrested the Buddha sadhus. Even on this matter, King Brihadatta, also known as Vrahadratha, got angry and asked Pushyamitra to leave the palace. Pushyamitra had to bear this humiliation to protect the nation.

One day there was a meeting between the commander Pushyamitra and the king somewhere outside the Raj Bhavan and there was a scuffle in this meeting. Historians say that Pushyamitra ripped the king in front of everyone with a sword. Declaring himself as the heir of the state, Pushyamitra proclaimed his right to power. Historians say that the Greek warrior Dometrien wanted to attack India with his large army. Pushyamitra Shunga attacked Domitrian and his army which was now more enthusiastically prepared on the banks of the river Indus and drove them back.

Then Pushyamitra established his capital at Vidisha in present-day Madhya Pradesh, which is known as a similar period Bhelsa city.

Pushyamitra Shunga organized two Ashwamedha Yagyas, which were performed by Panini's disciple Maharishi Patanjali. And during the yajna, the Indo-Greek king Milander or Milander, who ruled the Punjab in a war, also ended.

In order to preserve the existence of Indian culture and Sanatan Dharma, Pushyamitra did the same period.

31 मई 2022

Pakistan will have to give account of the tears of Baloch and Sindhi people.

Translated post dated 19 May 2022



 In the last few days, 18 Baloch students were forcibly picked up from the hostel and abducted by armed men. Forced home-lifting is not a new thing for the citizens of Sindh and Balochistan. Nadir Baloch tells that- The President and Vice President of the University were kidnapped and taken away, whose whereabouts are still not known. The kidnapped youths and agitators are also killed and after the murder the bodies are dumped in deserted places in mutilated condition. Information about such cruelty being released for almost 20 years through the Twitter space started becoming common these days. Students of Baluchistan University have announced a one-day strike in protest against this disappearance. This strike is going to start from 8th November 2021. The agitators say that the students of Baluchistan are being almost kidnapped from their hostels by the vice chancellor of the university and Pakistani arrangements. According to Riyaz Baloch in Baluchistan, in gross violation of human rights, till now hundreds of people are taken into custody and disappeared without any legal action. Now that questions are being raised on Baluchistan's Member of Parliament, Member of Legislative Assembly and also on the role of Chief Minister. But the human rights violation agenda of ISI and Pakistani Army continues.

The Baloch citizens, who are vocal on space, now openly raise their voice for the duties of the government and their rights. This is a symbolic event, in fact both Sindh and Baluchistan are not willing to stay with Pakistan under any circumstances, and this is the basis for the future disintegration of Pakistan. Citizens of Balochistan and Sindhudesh are terrified of lack of basic facilities.

    Recently, while making his argument in the Twitter space, a Baloch activist had told that the young man who was going to get married was not even allowed to complete the marriage ceremony. And he went missing. It is not that human rights related petitions were not presented before the United Nations in this matter, but there is a need to work very fast on this by the United Nations.

    Most of the activists of Baluchistan Liberation Movement are helping as much as possible outside Baluchistan in America, UK and other European countries, but Pakistan Army is proving to be the biggest obstacle to human rights. If we talk about how many movements were done in Baluchistan till now we see that

• First Conflict (1947–1955)

• Second Conflict (1958–59)

• Third Conflict (in the 1960s)

• Fourth Conflict (1973–77)

• Fifth Conflict (2004 to 2012)

• Sixth Conflict (2012 to present)

         Pakistan, which intervenes in India's internal affairs, is creating a negative situation these days in terms of economic tension, social instability as well as civil life and Citizen Life Index.

• At present, the names of Iraq, Israel, Soviet Union, America and India are also included in the countries advocating daily independence (according to Wikipedia).

  All the nations accept their demands as justified and the emphasis on them speaks against the oppression. But for the last several years, there has been little discussion in this regard at the international level. Of course, the reason for this could also be the geopolitical situation and the dreadful situation of Kovid-19, it cannot be denied.

   Friends, the freedom fighters of Baloch and Sindhudesh are not present mentally and physically in the celebration of independence of Pakistan. The states in favor of both these freedoms have become increasingly active on social media these days. But no movement can succeed only through social media. The agitators will have to make their strategy like Subhash Chandra Bose, then in any condition they can move forward with the current economic disorder of Pakistan, social adversity and their nationalist beliefs. It was revealed in space on Twitter today that the students' strike call can go on till the announcement of the release of 15 currently missing students and even if the Pro Army Pakistani Democratic System does not release them, then they can keep the whole university closed continuously. Huh.

     If human rights are also included in the sanctions imposed by the FATF, then Pakistan may not only get freedom from the gray list but they may also have to go to the black list. The top leadership of Pakistan and the people of their cabinet, who raise questions again and again for a particular sect in India, are neither serious nor sensitive, at least in relation to human rights, by introspection.

    Looking at the present circumstances, the situation in Pakistan can be the situation of 1971, there is no doubt about it. This Pakistan's pro military democracy is also known by ISI and the military itself.

27 मई 2022

Pakistan should introspect and not comment on India


Before commenting on Kashmir, talk about Balochistan, Bilawal ji.
  Kashmir is an integral part of India. The day-to-day concern of Pakistan on Kashmir is illegitimate .
Pakistan must ensure that the Baloch Sindhu Mujahirs, and religious minorities such as Hindus Christian Sikhs, etc., residing in its nation, are safe or not.
Pakistan neither has positive thinking for the above people nor will they allow them to live like common citizens.It is important to mention here that the Baloch and Indus agitators in Pakistan are shown the way to heaven directly.Thousands of such cases which are violation of human rights are also reported in the United Nations. But people and countries advocating for human rights are silent on this issue.
Pakistan has tried to create such an environment for the whole world. Pakistan sponsored terrorism in particular in South Asia always remains in the headlines.
Ajmal Kasab is an example of this. Even after Ajmal Kasab was confirmed to be a citizen of Pakistan, Pakistan did not consider him as its citizen.In the BBC report, the villagers of Ajmal Kasab deny that Ajmal Kasab is a resident of that village for fear of the army.
  This is a strange country funding terrorism by not feeding its hungry children.As long as Pakistan is ready to become the medium of propagation of Islam through terrorism, then this nation cannot progress. After 1971, there is sure to be at least three to four more parts of Pakistan. This estimate of mine will definitely take shape in the coming 10 to 15 years.There is a famous saying in India “Ghar mein hai daane amma chali bhunane” This is more or less the situation in Pakistan.To exploit the natural resources, this nation neither has the technology nor does it know the art of keeping its citizens safe.Just think, if the war-fighting army starts doing business, then you can imagine yourself how good it will be for Pakistan in such a situation.
On all these issues, the army management of Pakistan is of low status.It is meaningless for Pakistan to imagine India at par.
Points like economy, foreign policy, science and technology, education are the soft power of any nation, if you look carefully, there is no such environment in Pakistan. Pakistan's soft power is zero.
This country should develop soft power positively to save its existence and not misbehave with India.
Readers reading these thoughts must have understood how much this nation has come and gone and how weak its citizens must have been.From 1947 onwards, this nation focused on the destruction of India more than its development.As a result, he himself has to suffer.The International Monetary Fund in India returned the money whenever it was taken.Pakistan could not do this.
The reason for this condition of Pakistan is the people who imagined Pakistan by going out of India.It is meaningless to expect the Nawabs who were engaged in such a system of comfort throughout their lives to run the nation.
The world community should now worry about the rights of the citizens of Baloch and Sindhu country, who are demanding freedom from the neighboring country of India, which is alive on the mercy of China.
Through the article, Bilawal Bhutto and the Pakistani Establishment are cautioned to focus on their issues and not make foolish remarks of India's judicial system.

20 मई 2022

पाकिस्तानी सेना ने बलोच महिलाओं महिलाओं को अगवा करना शुरू कर दिया है ? #savebalochwomen

पाकिस्तान आर्मी बलूच महिलाओं को भी अगवा करने लगी है? इस बात की पतासाजी करने पर पता चलता है कि
बलूच एक्टिविस्ट इन दिनों एक # चला रहे हैं - "#savebalochwomen"
एएनआई से प्राप्त जानकारी के अनुसार पाकिस्तान में इन दिनों बलूच महिलाओं को पाकिस्तानी आर्मी द्वारा बंधक बनाकर अज्ञात जगह पर ले जाया जाने लगा है । इस संदर्भ में ट्विटर स्पेस पर चर्चा करते हुए बलोच एक्टिविस्ट हमीदा ने बताया कि-" शहजादी नामक एक ऐसी महिला है जिसका 6 दिन का बच्चा है उसे भी अगवा किया गया है, इसके अलावा हबीबा नूरजहां शाहबानो आदि महिलाओं को भी अगवा करने तथा लापता करने के समाचार ज्ञात होते हैं।
   इस संबंध में पश्चिमी देशों के मीडिया में पाकिस्तान में महिलाओं के अधिकार के उल्लंघन को लेकर कोई रिपोर्ट पेश नहीं की गई। भारत में जरा जरा सी घटनाओं को लेकर बीबीसी लंबी चौड़ी रिपोर्ट पेश करने में संकोच नहीं करता परंतु आज पिछले 1 हफ्ते से पाकिस्तान में हो रही महिलाओं के आर्मी द्वारा अपहरण पर बीबीसी जैसा मीडिया घराना चुप क्यों है?
   बलूचिस्तान की आजादी के एक्टिविस्ट  ट्विटर पर #savebalochwomen अभियान चला रहे हैं। उनका उद्देश्य है कि विश्व मीडिया इस मुद्दे को प्रमुखता से रखें परंतु यह सच है कि बलूचिस्तान के लिए खास तौर पर बलूच महिलाओं के लिए विश्व का मीडिया चुप्पी साध कर बैठा है।
   

human rights crisis in pakistan

Pakistan is a country where the condition of  minorities such as Hindu, Christian, Sikh and tribal populations and tribes, Hazara Baloch and Sindhi as well as Mujahirs is very poor .There are also cases of misbehavior by the Punjabis of Pakistan.
    Recall the situation in West Pakistan in 1971. The way Bengali Muslims were pushed into the negative atmosphere by the people of Punjab province was sad.
  Sheikh Mujib ur Rehman was supported by the then Prime Minister Smt. Indira Gandhi, due to the large number of refugees coming to India.The mob coming from West Pakistan tried to ruin the economy of India.Supporting the Mukti Bahini .  full of human compassion, liberated West Pakistan as Bangladesh and freed the people of that country from severe tension. 
   Pakistan, being a part of India, teaches enmity against India to its generation. The ideology of Pakistan against Hindus and Sikhs is dangerous.
 Readers, 
   Pakistan was not a peace loving nation and neither did Pakistan present itself before the world as a good nation.
       The United Nations is aware of this,but does not know under what pressure the whole of Europe remains calm on human rights abuses in Pakistan.
  The need for a civil law cannot be denied because of the plight of Hindus in such Islamic countries as Pakistan. 
   Freedom Fighters Of  Sindhu country said - "Abdul Basit, a diplomat of Pakistan, considers the attack on any country by Pakistani citizens to be correct.
    When I heard this on the twitter space, I was surprised that how can an ambassador of a country talk like this ? 
some good citizens, Friends, being a citizen of a nation like Pakistan also feels shameful to many. 
   How can a nation whose foundation is based on lies, deceit and ambition, envisage better protection of human rights than a nation?

19 मई 2022

The Pakistani administration is at number one in Baloch human rights abuses.

Nadir Baloch tweeted today what is the scene of how young Baloch students are kidnapped openly in Pakistan। This is happening not only with the Baloch in Pakistan, but the freedom fighters of the sindhu desh  are also tortured in the same way. Link You can see the visual by clicking on it.
Pakistan has once again enforcedly disappeared two Baloch students Gazzain Baloch an M-Phil scholar and Meer Ahmed worker in UDC-FBR in front of Meer Hotel Quetta. Now they abduct in public places with no fear. 

Pakistan will have to give account of the tears of Baloch and Sindhi people.

क्या पाकिस्तान फिर टूटेगा ?
            विगत कुछ दिनों में 18 बलूच स्टूडेंट्स को जबरिया हॉस्टल से उठा कर ले हथियारों से लैस लोग अपहरण करके ले गए । घर से जबरन उठाना सिंध और बलूचिस्तान के नागरिकों लिए कोई नई बात नहीं है। नादिर बलूच बताते हैं कि- यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट और वाइस प्रेसिडेंट को अगवा करके ले जाया गया जिनका अब तक कोई अता पता नहीं है। अपहृत युवाओं एवं आंदोलनकारियों की हत्या भी कर दी जाती है और  हत्या के बाद शव को क्षत-विक्षत हालत में वीरान जगहों पर फेंक दिया जाता है। ऐसी क्रूरता लगभग 20 वर्षों से जारी होने की जानकारी ट्विटर स्पेस के जरिए इन दिनों आम होने लगी। इसी गुमशुदगी के विरोध में बलूचिस्तान यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स  एक दिनी स्ट्राइक की घोषणा की है। यह स्ट्राइक  8 नवंबर 2021 से प्रारंभ करने जा रहे हैं । आंदोलनकारियों का कहना है कि बलूचिस्तान के स्टूडेंट्स को यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर और पाकिस्तानी इंतजामियां के द्वारा उनके हॉस्टल से लगभग अपहृत किया जा रहा है। मानव अधिकार का घोर उल्लंघन करते हुए बलूचिस्तान में रियाज बलोच के अनुसार अब तक सैकड़ों लोगों को बिना किसी वैधानिक कार्रवाई के हिरासत में लेकर लापता कर दिया जाता है। बलूचिस्तान के मेंबर ऑफ पार्लियामेंट मेंबर ऑफ लेजिसलेटिव असेंबली तथा मुख्यमंत्री की भूमिका पर भी अब तो उस सवाल उठने लगे हैं। परंतु आई एस आई एवं पाकिस्तानी आर्मी का मानव अधिकार हनन का एजेंडा लगातार जारी है।
स्पेस पर मुखर होते बलूच नागरिक अब तो खुलेआम सरकार के कर्तव्यों और अपने अधिकारों की आवाज उठाते हैं। यह एक प्रतीकात्मक घटना है वास्तव में सिंध और बलूचिस्तान दोनों ही किसी भी हालत में पाकिस्तान के साथ रहना पसंद नहीं कर रहे है, और यही है पाकिस्तान के भविष्य में होने वाली विघटन का आधार। बलूचिस्तान तथा सिंधुदेश के नागरिक मूलभूत सुविधाओं के अभाव में घबराए हुए हैं।
    पिछले दिनों टि्वटर स्पेस में अपनी तकरीर करते हुए एक बलूच एक्टिविस्ट ने बताया था कि- जो नौजवान शादी करने जा रहा था उसे तक शादी की रस्म पूरी नहीं करने दी गई। और उसे लापता कर दिया गया। ऐसा नहीं है कि इस मामले में यूनाइटेड नेशन के सामने मानव अधिकार से संबंधित याचिकाएं प्रस्तुत नहीं की गई परंतु यूनाइटेड नेशन द्वारा इस पर बहुत तेजी से काम करने की जरूरत है।
    बलूचिस्तान लिबरेशन मूवमेंट के अधिकांश एक्टिविस्ट इन दिनों बलूचिस्तान से बाहर अमेरिका यूके तथा अन्य यूरोपीयन देशों में रहकर यथासंभव मदद कर रहे हैं परंतु पाकिस्तान आर्मी मानव अधिकार की सबसे बड़ी बाधा सिद्ध होती जा रही है। यदि हम बात करें कि अब तक कितने आंदोलन बलूचिस्तान में किए गए तो हम देखते हैं कि
• प्रथम संघर्ष (१९४७-१९५५)
• द्वितीय संघर्ष (१९५८-५९)
• तृतीय संघर्ष (१९६० के दशक में)
• चतुर्थ संघर्ष (१९७३-७७)
• पंचम संघर्ष (२००४ से २०१२ तक)
• षष्ट संघर्ष (२०१२ से अब तक)
         भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने वाला पाकिस्तान इन दिनों आर्थिक तनाव सामाजिक अस्थिरता के साथ-साथ नागरिक जीवन समंक सिटीजन लाइफ इंडेक्स के मामले में नकारात्मक स्थिति निर्मित कर रहा है।
•     वर्तमान में रोज आजादी की हिमायत करने वाले राष्ट्रों में  इराक, इजराइल, सोवियत संघ,अमेरिका  एवं भारत का नाम भी शुमार होता है (विकीपीडिया के अनुसार)। 
  सभी राष्ट्र उनकी मांगों को जायज स्वीकारते हैं तथा उन पर होने वाले जोर जुल्म के खिलाफ अपनी बात रखते हैं। परंतु विगत कई वर्षों से इस संबंध में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा ना के बराबर ही हुई है। बेशक उसका कारण जियो पोलिटिकल सिचुएशन और कोविड-19 की भयावह स्थिति भी हो सकती है इससे इनकार नहीं किया जा सकता।
   मित्रों पाकिस्तान के आजादी के उत्सव में बलूच और सिंधुदेश के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी मानसिक और भौतिक रूप से उपस्थित नहीं रहते। इन दोनों स्वतंत्रता की पक्षधर राज्य इन दिनों सोशल मीडिया पर तेजी से सक्रिय हुए हैं। लेकिन कोई भी आंदोलन केवल सोशल मीडिया के जरिए सफल नहीं हो सकता । आंदोलनकारियों को सुभाष चंद्र बोस की तरह अपनी रणनीति बनानी होगी तब वह किसी हालत में पाकिस्तान की वर्तमान आर्थिक अव्यवस्था सामाजिक प्रतिकूलता एवं अपनी राष्ट्रवादी आस्थाओं के साथ आगे बढ़ सकते हैं। ट्विटर पर आज स्पेस में पता चला कि स्टूडेंट्स का हड़ताल वाला आव्हान वर्तमान में लापता 15 स्टूडेंट्स की रिहाई की घोषणा तक चल सकता है और इस पर भी प्रो आर्मी पाकिस्तानी डेमोक्रेटिक सिस्टम ने अगर उन्हें रिलीज नहीं किया तो वह पूरी यूनिवर्सिटी को लगातार बंद रख सकते हैं।
     एफएटीएफ द्वारा लगे प्रतिबंधों में अगर मानव अधिकार को भी शामिल किया जाए तो पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट से मुक्ति तो नहीं मिल सकती बल्कि उन्हें ब्लैक लिस्ट में भी जाना पड़ सकता है। भारत में संप्रदाय विशेष के लिए गाहे-बगाहे प्रश्न उठाने वाले पाकिस्तान के शीर्ष नेतृत्व एवं उनके कैबिनेट के लोग आत्म निरीक्षण कर कम से कम मानव अधिकारों के संबंध में ना तो गंभीर है और ना ही संवेदित नजर आते हैं ।
    वर्तमान परिस्थितियों को पर गौर करें तो पाकिस्तान की स्थिति 1971 वाली स्थिति हो सकती है इसमें कोई दो राय नहीं। यह पाकिस्तान की प्रो मिलिट्री डेमोक्रेसी आई एस आई और मिलिट्री स्वयं भी जानती है ।
गिरीश बिल्लोरे मुकुल

15 मई 2022

क्यों लिखी मैंने पुस्तक “भारतीय मानव सभ्यता एवं संस्कृति के प्रवेश द्वार 16000 वर्ष ईसा पूर्व"

 


 

01.   प्रस्तावना :- भारत के प्राचीन इतिहास के साथ जो दुर्व्यवहार इतिहासकारों ने किया है उससे एक सांस्कृतिक संकट उत्पन्न हो गया है। मनचाहे तरीके से प्राचीन इतिहास को लिखना वास्तव में  एक षड्यंत्र ही है इसके अतिरिक्त कुछ भी नहीं। ईश्वरीय प्रेरणा से लिखे गए इस ग्रंथ किसका नाम है-भारतीय मानव सभ्यता एवं संस्कृति के प्रवेश द्वार 16000 वर्ष ईसा पूर्व में बहुतेरे ऐसे ही  प्रश्न उठाए गए हैं. सुधि पाठक जानिये कि- भारतीय संस्कृति के प्रति हमारी सोच तथाकथित इतिहास लेखकों एवं साहित्यकारों ने जिस तरह से बदलने की कोशिश की है उस पर एक सवालिया निशान लगाती हुई है कृति आपको अवश्य पढ़ना चाहिए। संक्षिप्त में कुछ तथ्य आपके सामने यहां क्रमशः रख रहा हूं। कदाचित आप सहमत होंगे अगर आप सहमत ना भी हो तो आपकी असहमति भी मेरे लिए सहमति की तरह महत्वपूर्ण है।भारत का वास्तविक प्राचीन इतिहास केवल मिथक हो गया तथा मध्यकाल और उसके बाद का इतिहास तो मुगलिया इतिहास बन के रह गया। अतएव ईश्वरीय प्रेरणा से यह कृति लिखने का प्रयास किया है।

2. जैन धर्म एवं श्रीकृष्ण :-  प्रायोजित से लगने वाले वर्तमान लिखित एवं पढ़े जाने वाले इतिहास में जैन तीर्थंकरों का उल्लेख अवश्य है पर यहाँ दो तीर्थंकरों का उल्लेख नहीं किया जो महाभारत कालीन श्रीकृष्ण के समकालीन थे। ऋषभदेव एवं अरिष्टनेमि या नेमिनाथ के शब्दों  का उल्लेख 'ऋग्वेद' में मिलता है। अरिष्टनेमि को भगवान श्रीकृष्ण का निकट संबंधी माना जाता है। उपरोक्त विवरण से श्रीकृष्ण को इतिहास से  विलोपित रखे जाने के उद्देश्य से नेमीनाथ जी का विस्तृत विवरण विलुप्त किया गया।


3. इक्ष्वाकु वंश एवं महात्मा बुद्ध :- महात्मा बुद्ध एक श्रमण थे जिनकी शिक्षाओं पर बौद्ध धर्म का प्रचलन हुआ। इनका जन्म लुंबिनी में 563 ईसा पूर्व इक्ष्वाकु वंशीय क्षत्रिय शाक्य कुल के राजा शुद्धोधन के घर में हुआ था। उनकी माँ का नाम महामाया था जो कोलीय वंश से थीं, फिर भी इतिहास वेत्ताओं ने उसी कुलवंश इक्ष्वाकु वंश के बुद्ध के पूर्वज को काल्पनिक निरूपित किया है .... है न हास्यास्पद तथ्य !

4.भारत में मानव जीवन की शुरुआत :- जीवन का प्राथमिक निर्माण केवल “स्वचालित-रासायनिक-प्रक्रिया (Auto-Chemical-Process)” से ही हुई है।जीवन की उत्पत्ति के लिए अजीवात जीवोतपत्ति: के सिद्धांत आज भी माने जाते हैं. जीवन का अस्तित्व में लाने में यहरासायनिक,बायोलाजिकल, भौतिक,  अनुकूलता आवश्यक भी हैं .

5.कितने प्राचीन हैं हम:- मध्य प्रदेश में भीमबेटका के अवशेष साबित करते हैं कि भारतीय मानव-सभ्यता संस्कृति का अस्तित्व 2.6 लाख साल प्राचीन है.

6.आर्यन रेस :- विश्व में मानव प्रजाति के वर्गीकरण के लिए  निम्नानुसार मानव की प्रमुख प्रजातियाँ Principal Races को वर्गीकृत किया है.

Ø निग्रिटो Negrito,

Ø नीग्रो Negro 

Ø आस्ट्रेलॉयड Australoid, 

Ø भूमध्यसागरीय Mediterranean, 

Ø नॉर्डिक Nordic, 

Ø अल्पाइन Alpine, 

Ø मंगोलियन Mongoion,

Ø एस्किमो Eskimo 

Ø बुशमैन Bushmen, 

Ø खिरगीज Khirghiz, 

Ø पिग्मी Pigmy, 

Ø बद्दू Bedouins, 

Ø सकाई Sakai, 

Ø सेमांग Semang, 

Ø मसाई Masai.

इस वर्गीकरण में चर्चित आर्य प्रजाति का उल्लेख नहीं है..?  अर्थात कहीं भी आर्य प्रजाति Aryan-Race शुद्धरूप से भारतीय ही है। इस पर विस्तार से विवरण इस कृति में शामिल किया है..!

7. रामायण और महाभारत काल:- रामायण और महाभारत काल काल्पनिक नहीं बल्कि वास्तविकता से परिपूर्ण है। इस कृति की सह लेखिका के रूप में डॉक्टर हंसा व्यास ( शिष्या प्रोफेसर वाकणकर जी ) जिन बिंदुओं पर प्रमुख रूप से आगे चर्चा करेंगी उनमें से एक है नर्मदा तट पर मौजूद रामायण एवं महाभारत ग्रंथों में मौजूद तत समकालीन स्थावर अवशेष राम के वन मार्ग के का निर्धारण आदि के संदर्भ में लेखन कार्य कर रहे हैं। राम केवल करुणानिधान राम नहीं है कृष्ण केवल कर्म योगी कृष्ण नहीं है हमें ऐतिहासिक संदर्भों को प्रस्तुत करते हुए उनके अस्तित्व और काल्पनिक संदर्भों से उनको दूर करने की जरूरत है। आने वाली पीढ़ी को यह बताना भी आवश्यक है कि राम और कृष्ण किसी भी स्थिति में मिथक नहीं है।

7.1 इंडस वैली सिविलाइजेशन:- इंडस वैली सिविलाइजेशन जिस पर अभी मात्र 10% से 15% तक कार्य हो सका है। खुदाई से प्राप्त अवशेषों से यह पुष्टि हो रही है कि वे अवशेष 3500 वर्ष प्राचीन न होकर लगभग 4500 वर्ष पुराने हैं तथा यह अवधि उपरोक्त सभ्यता के अंत की थी, अर्थात जब इस सभ्यता का उदय हुआ था तब से अंत तक के समय का कोई हिसाब-किताब रखे बिना यह तय कर देना कि भारतीय सभ्यता व संस्कृति (इंडस वैली सिविलाइजेशन एंड कल्चर ) ईसा के 1500 वर्ष पूर्व का है इसे सिरे से खारिज करता हूँ।

मोहनजोदड़ो हड़प्पा धौलावीरा आदि क्षेत्रों की खुदाई तथा उससे मिलने वाले अवशेषों को ईसा के 4500 से 5000 वर्ष पूर्व का माना है जो कि सभ्यता के अंत के हैं तो सभ्यता का प्रारम्भ कब का होगा आप अंदाज़ा लगा सकते हैं। भारतीय भूभाग में यद्यपि नदी घाटी सभ्यता के संदर्भों पर अभी बहुत सारा काम होना शेष है, कदाचित मैं इस जन्म में पूर्ण न कर सकूं।परन्तु भविष्य में कोई यह कार्य करेगा इस बात को मानता हूँ और आशान्वित भी हूँ...।

9. भ्रामक साहित्य लेखन :- हमारे दो प्रतिष्ठित साहित्यकारों क्रमश: श्रीयुत राहुल सांकृत्यायन की कृति “वोल्गा से गंगा तक” एवं श्रीयुत रामधारी सिंह जी दिनकर की कृति “संस्कृति के चार अध्याय” साहित्यानुरागी, इतिहास के विद्यार्थी, एवं   पाठक ही नहीं वरन .... मानव समाज भी भ्रमित हुआ हैं। ये दौनों माननीय लेखक भारतीय जन-मानस में वे इस मंतव्य को स्थापित करने में सफल भी हो गए कि भारतीय मानव सभ्यता एवं संस्कृति का विकास मात्र 1500 ईसा-पूर्व ही हुआ। यह अलग बात है कि- वे अपनी-अपनी कृतियों को साहित्यिक कृति का रहे थे।इन महान लेखकों ने क्या किया एक झलक देखिये ....

12. यहां अन्य और दो कृतियों का पुन: उल्लेख आवश्यक हैंजिनमे एक श्री राहुल सांकृत्यायन - वोल्गा से गंगा, दूसरे श्री रामधारी सिंह दिनकर जी संस्कृति के चार अध्याय ।

दोनों ही कृतियों में क्रमशः तक तथा में भारतीय संस्कृति को केवल ईसा-पूर्व, 1800-1500 वर्ष पूर्व तक सीमित कर देते हैं।दिनकर जी तो चार कदम आगे आ गए और उनने यहाँ तक कह दिया

12.1. मान॰ राहुल सांकृत्यायन अपनी किताब वोल्गा से गंगा तक में कथाओं का विस्तार देते हुए मूल वैदिक चरित्रों और वंश का उल्लेख करते हैं तथा उन्हें 6000 से 3500 साल की अवधि तक सीमित करने की कोशिश करते हैं। वे अपनी प्रथम कहानी निशा में 6000 ईसा पूर्व दर्शाते हैं। दूसरी कथा निशा शीर्षक से है जिसमें 3500 वर्ष पूर्व का विवरण दर्ज है।

 13. डॉ विष्णु श्रीधर वाकणकर (उपाख्य : हरिभाऊ वाकणकर ; 4 मई 1919 – 3 अप्रैल 1988) ने पहली बार रहस्यों से पर्दा हटाया था:- वाकणकर जी  भारत के एक प्रमुख पुरातत्वविद् थे। उन्होंने भोपाल के निकट भीमबेटका के प्राचीन शिलाचित्रों का अन्वेषण किया। अनुमान है कि यह चित्र 175000 वर्ष पुराने हैं। इन चित्रों का परीक्षण कार्बन-डेटिंग पद्धति से किया गयापरिणामस्वरूप इन चित्रों के काल-खंड का ज्ञान होता है। इससे यह भी सिद्ध होता है कि उस समय रायसेन जिले में स्थित भीम बैठका गुफाओं में मनुष्य रहता था और वो चित्र बनाता था। सन 1975 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया।

14.संदर्भ विवरण :- श्री वेदवीर आर्य अध्यावसाई विद्वान हैं । श्री आर्य रक्षालेखा विभाग के में उच्च पद पर आसीन हैं। संस्कृतआंग्लपर समान अधिकार रखने वाले श्री आर्य का रुझान भारत के प्राचीन-इतिहास में है। वे तथ्यात्मक एवं एस्ट्रोनोमी एवं वैज्ञानिक आधार पर इतिहास की पुष्टि करने के पक्षधर हैं। उनकी अब तक दो कृतियाँ क्रमश: THE CHRONOLOGY OF INDIA from Manu to Mahabharata, तथा THE CHRONOLOGY OF INDIA From Mahabharata to Medieval Era, वो कृतियाँ हैं जिनके आधार पर हम भारत के वास्तविक इतिहास तक आसानी से पहुँच सकते हैं। यह कथन इस लिए कह सकने की हिम्मत कर पा रहा हूँ क्योंकि श्री आर्य ने – इतिहास को मौजूद वेदवैदिक-साहित्य में अंकित/उल्लेखित विवरणोंघटनाओं को नक्षत्रीय गणना के आधार पर अभिप्रमाणित करते हुये सम्यक साक्ष्य रखे  हैं। इस कृति का आधार भी श्री वेदवीर आर्य की कृति The chronology of India from Manu To Mahabharata ही है।

15. वेदांग ज्योतिष आदियुग को इस प्रकार से चिन्हांकित किया –“जब सूर्य, चंद्रमा, वसव, एक साथ श्रविष्ठा-नक्षत्र में थे तब आदियुग का प्रारंभ हुआ था।इस तथ्य की पुष्टि करते हुए वेदवीर आर्य ने साफ्टवेयर से गणना करके पहचाना कि – 15962 ईसा-पूर्व अर्थात आज से 15962+2021= 17,983 साल पहले हुआ था।

16. ब्रह्मा प्रथम नक्षत्र-विज्ञानी हैं जिन्हौने 28 नक्षत्र, 7 राशि, की अवधारणा को स्थापित किया था आदिपितामह ब्रह्मा ने ही पितामह-सिद्धान्त की स्थापना की। धनिष्ठादि- नक्षत्र के नाम इस प्रकार हैं : धनिष्ठा, अश्विनी, भरणी, कृतिका, रोहिणी, मृगशिरा, आर्दा, पुनर्वसु, पुष्य,अश्लेषा, माघ, पूर्वाफाल्गुनी, उत्तराफाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाति, विशाखा, अनुराधा, ज्येष्ठा, मूल, पूर्वाषाढा, उत्तराषाढा, अभिजित, श्रवण, शतभिषा, पूर्वाभाद्रपद, उत्तराभाद्रपद, रेवती।

17. वेदवीर आर्य:- वेदवीर आर्य जी ने ऋग्वेद के कालखंड को 14500 BCE से 11800 BCE तक कालखंड निर्धारित किया है। ऋग्वेद निर्माण के मध्यकाल को 11800 BCE से 11000 BCE तथा उत्तर ऋग वैदिक काल को 11000 BCE से 10,500 BCE (ईसा पूर्व) चिन्हित किया। अनुसंधानकर्ता श्री वेद वीर ने उन समस्त ऋषियों का भी सूचीकरण किया है जो वेद निर्माण में प्रमुख भूमिका में थे जिसमें लोपामुद्रा का नाम भी सम्मिलित है। ऋग्वेद के उपरांत यजुर्वेद अथर्ववेद सामवेद के निर्माण कालखंड को 14000 से 10500 BCE मानते हैं।

17.1 .    वैदिक संहिताओंऔर अन्य ग्रंथों उपनिषदों के लेखन का समय अर्थात कालखंड 10,500 ईसा पूर्व से 6777 ईसा सुनिश्चित करते हैं।

17.2.    भारत-भूमि पर ईसा पूर्व कम से कम 2.5 लाख से 2 लाख वर्ष पूर्व की कालाअवधि में मानव प्रजाति का जन्म हो चुका थापरंतु 72 हज़ार साल पूर्व के टोबा ज्वालामुखी के प्रभाव से होने वाली धूल मिट्टी इत्यादि के प्रभाव से बचने का केवल एक तरीका था कि लोग किसी कठोर संरचना जैसे गुफाआदि के भीतर निवास करें। ऐसी स्थिति में पर्वतों जैसी विंध्याचल सतपुड़ा हिमालय तथा आदि की गुफाओं से श्रेष्ठ आश्रय स्थल और कौन सा हो सकता था। इसकी पुष्टि वनों में निवास करने वाले वनवासियों द्वारा बनाए गए शैल चित्रों से होती है जिनका निर्माण डेढ़ लाख वर्ष पूर्व मध्य प्रदेश के सतपुड़ा पर्वत माला में वाकणकर जी ने किया है। ऐसी स्थिति में यह तथ्य पूर्णता है स्पष्ट है कि.....

19.    इससे यह सिद्ध होता है कि जन-मानस में कहानियों के माध्यम से त्रुटिपूर्ण जानकारी को प्रविष्ट कराया जा रहा है। कहानी तो एक था राजा एक थी रानी के तरीके से सुनाई जा सकती थी परंतु गंगा से वोल्गा तक के सफर में ऐसा प्रतीत होता है कि बलात एक मंतव्य अर्थात नैरेटिव स्थापित करने की प्रक्रिया पूज्यनीय राहुल सांकृतायन ने करने का प्रयास किया है ।

20.    स्वर्गीय रामधारी सिंह दिनकर जी ने भी आर्य सभ्यता एवं संस्कृति और भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति को पृथक पृथक रूप से वर्गीकृत कर समाज का वर्गीकरण करने में कोई कोताही नहीं बरती है। इतना ही नहीं वे कहते हैं कि महाभारत का युद्ध पहले हुआ तदुपरांत उपनिषदों का जन्म हुआ। यह तथ्यों की जानकारी अथवा साहित्यिक कृति के रूप में लिखी गई किताब अथवा लिखवाई गई किताब में संभव है कि ऐसा लिखवाया  जाए। वास्तव में तथ्य एवं सत्य यह है कि – “महाभारत ईसा के 3162 वर्ष पूर्व हुआ और संहिता ब्राह्मण आरण्यक एवं उपनिषदों की रचना का काल 10,500 से 6677 ईसा पूर्व माना गया है।

21.    साहित्य अकादमी से पुरस्कृत संस्कृति के चार अध्याय नामक कृति के प्रारंभ में ही ऐसी त्रुटियां क्यों की गई इसका उत्तर मिलना भले ही मुश्किल हो लेकिन इस कृति का उद्देश्य बहुत ही स्पष्ट रूप से समझ में आ रहा है कि पश्चिमी विद्वानों के दबाव में किसी राजनीतिक इच्छाशक्ति के चलते इस कृति का निर्माण किया गया। हतप्रभ हूं कि महाकवि पूज्य रामधारी सिंह दिनकर ने इसे क्यों स्वीकारा ?

22.    कालानुक्रम का बोध न होने के कारण पूज्य दिनकर जी ने एक स्थान पर लिखा है –“ कथा-किंवदंतियों का जो विशाल भंडार हिंदू पुराणों में जमा है उसका भी बहुत बड़ा अंश आग्नेय सभ्यता से आया है। किसी किसी पंडित का यह भी अनुमान है कि - रामकथा की रचना करने में आग्नेय जाति के बीच प्रचलित कथाओं से सहायता ली गई है तथा पंपापुर के वानरों और लंका के राक्षसों के संबंध में विचित्र कल्पनाएं रामायण मिलती हैंउनका आधार आग्नेय लोगों की ही लोक कथाएं रही होंगी । किंवदंतियाँ और लोक कथाएं पहले देहाती लोगों के बीच फैलती हैं और बाद में चलकर साहित्य में भी उनका प्रवेश हो जाता है।

23.    रामधारी सिंह दिनकर जी ने पुराण में वर्णित सीता का उल्लेख किया है वह मान्य है किंतु यह कैसे मान लें कि दिनकर जी को इस तथ्य का स्मरण में नहीं रहा था कि ऋग्वेद में ज्ञान देवी सरस्वती और वेद निर्माण क्षेत्र की गुमशुदा नदी सरस्वती एक ही नाम थे परंतु एक देवी के रूप में और दूसरी नदी के रूप में भौतिक रूप में उपलब्ध थी। जिनका स्वरूप अलग अलग था। यह स्वाभाविक है कि एक ही नाम किन्ही दो व्यक्तियों के हो सकते हैं ।

24. दिनकर जी ने इस तरह है तो रामायण एवं महाभारत के संदर्भ में कृष्ण की व्याख्या नहीं थी और ना ही कोई तकनीकी साक्ष्य प्रस्तुत किए है जो यह साबित कर सके कि राम और कृष्ण इतिहास पुरुष है। इसका सीधा-सीधा अर्थ है कि वह इस तथ्य को तो स्वीकारते हैं कि राम और कृष्ण हमारे शाश्वत पुरुष हैं जिनकी चर्चा आज भी होती है किंतु वे उन्हें ऐतिहासिक रूप से संस्कृति के चार अध्याय में सम्मिलित नहीं करते हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि दिनकर जी द्वारा जिन्होंने रश्मि रथी जैसी कृति का लेखन किया उनने जाने किन कारणों से इतिहास की शक्ल में एक कल्प-कथ्य लिखा होगा...?

25. एक और प्रश्न मस्तिष्क पर बोझ की तरह लगा हुआ था ... "ईसा के पंद्रह सौ साल पहले ईसा मसीह के जन्म काल तक क्या चार वेद 18 पुराण ब्राह्मण आरण्यक उपनिषद, ज्योतिष भाषा विकास मोहनजोदड़ो हड़प्पा धौलावीरा, नर्मदा-घाटी के आसपास के अतिरिक्त  सभी नदियों के आसपास ) सभ्यता एवं संस्कृति का विकास कैसे हो गया था ?

26. भाषा:- किसी भाषा बनने में ही कम से कम 100 वर्ष  लग जाते हैं भाषा के विकास में कम से कम 500 साल फिर उन ग्रंथों को रचना इतना आसान तो नहीं ..?

27. वर्ण-व्यवस्था:- समाज का तत्समय चार नहीं  खंड में विभाजन किया गया था न कि 4 खंडों में। ब्राह्मण क्षत्रि वैश्य एवं छुद्र (शूद्र ) एवं चांडाल। यह वर्गीकरण पेशे के आधार पर था। पांचों वर्णों का क्रमश: ब्राह्मण क्षत्रि वैश्य एवं छुद्र (शूद्र ) एवं चांडाल का कार्याधारित वर्गीकरण किया गया था न कि जाति के आधार पर।

1.   शूद्रशूद्र शब्द केवल छुद्र शब्द का अपभ्रंश है। चीनी यात्रियों के द्वारा लिखित विवरण अनुसार उपरोक्त तथ्य प्रमाणित हैं। छुद्र अस्पृश्य नहीं होते। न ही उनको दलित या महा दलित जैसे विशेषणों से संबोधित करना चाहिए । केवल तत्कालीन समय में चांडाल स्वयंभू अस्पृश्य थे।

2.   वणिक या वैश्यइस वर्ण का कार्य व्यवसाय से अर्थोपार्जन करना था। राज्य की वित्तीय व्यवस्था का के भुगतान एवं राजा को आवश्यकतानुसार धन उपलबढ़ा कराने का दायित्व प्रमुख-रूप से इसी वर्ग का था। ताकि राज्य में क्ल्यानकारी कार्योंसामरिकरक्षाआदि की व्यवस्था के लिए धन का प्रवाह हो सके। इसे रामायण काल कृष्ण के कालतदुपरान्त नन्द वंश के विवरण एवं अन्य राजाओं के इतिहास के सूक्ष्म विश्लेषण से समझा जा सकता है।

3.   क्षत्री: राज्य की आंतरिक एवं बाह्य सुरक्षा व्यवस्थाका भार सम्हालने का दायित्व इसी वर्ण का था

4.  ब्राह्मण:-शास्त्र, अर्थात- अध्यात्मदर्शनकलाशिल्पयुद्ध की नीतिराज्य की नीतिएवं अन्य मानवोपयोगी ज्ञान जैसे आयुर्वेद् वास्तु-कला करना

5. चांडाल:-मानवीय एवं पशुओं के शवों के निपटान शमशान की व्यवस्थाजैविक-कचरे का निपटान कर स्वच्छता का उत्तर-दायित्व। समाज में उनको उनके राजा के अधीन किया था। काशी में यह परंपरा आज भी देखी जा सकती है। केवल तत्कालीन समय में चांडाल स्वयंभू अस्पृश्य थे। वे बहुसंख्यक शाकाहारी समुदाय को स्पर्श नहीं करने देना चाहते थे। क्योंकि वे कायिक-कचरे के निपटान में शामिल होते थे अत: आयुर्वेदिक अनुदेशों का पालन करते हुए लोक-स्वास्थ्य-गत कारणों से गाँव में प्रविष्ट होते समय ढ़ोल पीटते शोर मचाते थे। शमशान घाटों पर भी किसी को भी न छूने की परंपरा का पालन कराते थे ।