Girah kholi gine hamane : By Girish Billore "Mukul"

जबलपुर में एक लाख से अधिक स्कूली बच्चों ने रचा इतिहास : श्री अभिमनोज

जबलपुर. ‘‘हम सब ने ये ठाना है शहर को नम्बर 1 बनाना है’’ जैसे नारों के साथ शहर के एक लाख से अधिक स्कूली बच्चों ने आज इतिहास रच दिया. शहर के 448 शासकीय और अशासकीय स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थी पूरे उत्साह के साथ सड़कों पर आये और बड़ों को स्वच्छता का संदेश दिया. स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत जबलपुर को साफ सुथरा रखने और देश में जबलपुर को प्रथम स्थान दिलाने इस महाअभियान का आयोजन किया गया. कहीं हाथों में बैनर पोस्टर लेकर विद्यार्थियों ने स्व्च्छता का संदेश दिया तो कहीं छात्र छात्राओं ने आम लोगों और व्यापारियों को डस्ट बिन का उपयोग करने के लिए प्रेरित किया.
स्वच्छता को लेकर पहली बार आयोजित इस व्यापक जागरूकता अभियान के दौरान महापौर डॉ श्रीमती स्वाती सदानंद गोडबोले, एमआईसी सदस्य और निगमायुक्त श्री वेदप्रकाश भी स्कूली विद्यार्थियों के बीच पहुंचे और उनका उत्साह बढ़ाया. महापौर ने कहा कि स्वच्छता को लेकर स्कूली विद्यार्थियों में आई जागरूकता समाज के लिए अच्छा संकेत है और उनके माध्यम से बड़े भी साफ सफाई के प्रति प्रेरित होंगे . स्वच्छता क्रांति का नजारा एक ही समय में शहर भर के स्कूली विद्यार्थियों द्वारा सड़कों पर आ जाने से पहली बार स्वच्छता क्रांति का एहसास हुआ. भविष्य को लेकर स्कूली बच्चोंकी चिंता और जागरूकता को देखकर बड़े भी प्रेरित हुए और उन्होंने विद्यार्थियों के हौसले और जज्बे को सराहा.
स्वच्छता को लेकर शहर में बड़ें पैमाने पर पहली बार हुए जागरूकता अभियान की सफलता पर महापौर डॉ श्रीमति स्वाती सदानंद गोडबोले और निगमायुक्त श्री वेदप्रकाश ने सहभागिता करने वाले सहयोग के लिये जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन का आभार व्यक्त किया है . महापौर ने आशा व्यक्त की है कि स्वच्छता के प्रति जागरूकता लाने के लिये इस अभियान से समाज पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और नागरिकों में सफाई के प्रति गंभीरता आएगी.
इस अवसर पर महापौर डॉं. श्रीमती स्वाती सदानंद गोडबोले, मेयर इन काउंसिल के सदस्य श्री मनप्रीत सिंह आनंद, श्री कमलेश अग्रवाल, श्री श्रीराम शुक्ला, श्री नवीन रिछारिया, श्री रमेश प्रजापति, श्रीमती दुर्गा देवी उपाध्याय, श्रीमती रेखा सिंह ठाकुर, श्रीमती इन्द्रजीत कौर कुंवरपाल सिंह शेरू, श्रीमती वीणा रजनीश जैन, श्रीमती ज्योति कुरील, पार्षदगण, निगमायुक्त श्री वेदप्रकाश, अपर आयुक्त श्री गजेन्द्र सिंह नागेश, श्री रोहित सिंह कौशल, उपायुक्त श्री राकेश अयाची, श्री जी.एस. बघेल, श्रीमती अंजू सिंह ठाकुर के साथ साथ सभी नगर निगम के विभागीय प्रमुख, संभागीय अधिकारी, तथा समस्त मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षकों ने भी स्कूलों के प्राचार्यो तथा प्राध्यापकों के साथ बच्चों का उत्साहवर्धन कर उनकी निगरानी की.

यूट्यूब पर बंटा अनोखा ज्ञान नास्त्रेदमस को लेकर


भविष्यवक्ताओं की सूची में यदि सबसे ऊपर किसी का नाम आता है तो वो है ‘नास्त्रेदमस’। फ्रांस के 16वीं (1503-1566) सदी के जाने माने भविष्यवक्ता, एक ज़माने में डॉक्टर एवं शिक्षक भी रह चुके थे। ये प्लेग जैसी बीमारियों का इलाज भी करते थे।
आपको जानकर हैरानी होगी, परन्तु नास्त्रेदमस किसी साधारण तरीके से नहीं, बल्कि अपनी कविताओं से भविष्य में होने वाली घटनाओं की ओर इशारा करते थे। उन्होंने अपने जीवनकाल में सैकड़ों भविष्यवाणियां की होंगी, जिनमें से अमूमन सत्य ही साबित हुईं।
आज भी लोग उनकी इन भविष्यवाणियों को ढूंढ़कर अपने आने वाले कल के बारे में संकेत पाते हैं। यदि भारत से जुड़ी नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों की बात करें, तो उन्होंने राजीव गांधी की हत्या से लेकर विश्व युद्ध तक की भविष्यवाणी की, और आश्चर्य की बात है कि यह सभी भविष्यवाणियां सच हो गईं।
इतना ही नहीं, नास्त्रेदमस ने यह भी कहा था कि भारत में एक ऐसा पुरुष सत्ता पर विराजमान होगा, जो राजनीति के संदर्भ को हिलाकर रख देगा। विभिन्न शोधकर्ताओं की नजर में नास्त्रेदमस की यह भविष्यवाणी ‘नरेंद्र मोदी’ की ओर ही इशारा करती है।
शोधकर्ता नास्त्रेदमस की वर्षों पुरानी भविष्यवाणियों में से प्रत्येक वर्ष की भविष्यवाणियां निकालकर लाते हैं। पिछले वर्ष भी हमने आपको वर्ष 2016 की नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियां प्रस्तुत की थीं। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम वर्ष 2017 की भविष्यवाणियां बताने जा रहे हैं।
तो दिल थाम लीजिए.... क्योंकि यह वर्ष बड़े बदलाव वाला होगा, ऐसा हम नहीं स्वयं नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियां ही कहती हैं। आर्टिकल के अंत में हम आपको भारत से जुड़ी एक ऐसी भविष्यवाणी से परिचित कराएंगे, जिस जान दंग रह जाएंगे आप।
शुरुआत करते हैं रूस के मुद्दे से... नास्त्रेदमस के अनुसार वर्ष 2017 रूस के लिए काफी खास होने वाला है। इस साल में रूस एवं यूक्रेन एक विशेष समझौते की ओर बढ़ेंगे, दस्तावेजों के माध्यम से हाथ मिलाएंगे। दो देशों के इस फैसले को अमेरिका अस्वीकार करेगा लेकिन अन्य यूरोपीय देशों का इसे समर्थन हासिल होगा।
वर्ष 2016 चीन के लिए उतार-चढ़ाव वाला रहा, जहां भारत की ओर से उसे काफी निंदा हासिल हुई, वहीं अमेरिका ने भी कुछ खास सराहना नहीं दी। शायद इसी के चलते वर्ष 2017 में चीन अपने देश के हित में एक बड़ी तस्वीर उजागर करेगा।
लेकिन नास्त्रेदमस के अनुसार चीन के ये कदम पूरे विश्व के लिए लाभकारी सिद्ध हो सकते हैं। क्योंकि चीन द्वारा लिए जाने वाले फैसले चीन की आर्थिक स्थिति से लेकर, विश्व की आर्थिक स्थिति में भी बदलाव ला सकते हैं।
विश्व प्रसिद्ध सम्मेलन ब्रिक्स में चीन का झंडा सबसे अधिक चमकेगा, ऐसी भविष्यवाणी भी की है नास्त्रेदमस ने। तो संभव है कि वर्ष 2017 चीन के लिए बेहद खास होने वाला है।
लातिन अमरीका के हालातों से सभी परिचित हैं, अपने खुद के मसले ही सुलझाता यह भूभाग वर्ष 2017 में कुछ विशेष कदम उठाने वाला है। लेकिन इसका लाभ केवल और केवल लातिन अमरीका के हित में ही होगा।
नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों में से इटली के लिए बुरी खबर है। इटली को भारी आर्थिक नुकसान का सामना होगा, जिससे उभरने में उसे सालों लग जाएंगे। बीते 2 सालों से वैसे भी इटली ‘ऋण’ संबंधी परेशानियों से जूझ ही रहा है, किंतु समस्याओं के बादल छंटने जैसा समय फिलहाल दूर है।
जो लोग डिजिटल दुनिया की थोड़ी भी जानकारी रखते हैं, वे क्लाउड कम्प्यूटिंग के बारे में जानते हैं। यह कम्प्यूटर की दुनिया की देन कही जा सकती है, लेकिन नास्त्रेदमस की एक भविष्यवाणी के अनुसार क्लाउड कम्प्यूटिंग जैसी चीज को वर्ष 2017 में खतरा है।
नास्त्रेदमस की विभिन्न भविष्यवाणियों में युद्ध का जिक्र सामान्य पाया गया है, जिनमें से एक वर्ष 2017 से भी जुड़ी है। लेकिन यह युद्ध अन्य लड़ाइयों से कुछ अलग होगा। यह युद्ध ग्लोबल वार्मिंग से जुड़ा होगा। लेकिन युद्ध किसके बीच में होगा, इस पर शोधकर्ता फिलहाल गहराई से शोध कर रहे हैं।
सूर्य की किरणों से ऊर्जा पाने का तरीका है ‘सोलर पावर’। नास्त्रेदमस की एक भविष्यवाणी के अनुसार वर्ष 2017 में लोग सूर्य पर काफी अधिक निर्भर हो जाएंगे। और शोधकर्ताओं के अनुसार इस भविष्यवाणी का इशारा सोलर पावर की ओर ही है।
अब जिस भविष्यवाणी का हम जिक्र करने जा रहे हैं, हो सकता है उसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। क्योंकि जो कभी सपने में भी संभव नहीं हो सका, वो शायद अब वर्ष 2017 में हो जाए।
ऐसा हम नहीं लेकिन नास्त्रेदमस की एक भविष्यवाणी ही कह रही है, जिसके अनुसार उत्तर एवं दक्षिण कोरिया अपनी वर्षों पुरानी लड़ाई तोड़ देंगे। दोनों देशों में समझौता हो जाएगा। लेकिन इतना बड़ा बदलाव आखिरकार कैसे हो सकता है और होगा भी या नहीं, यह तो वक्त ही बताएगा।
नास्त्रेदमस की वर्ष 2017 से जुड़ी भविष्यवाणी कहती है कि भारत 2017 का यह वर्ष सालों-साल याद रखेगा। इस वर्ष कुछ ऐसा खास होगा, जो भारतीयों को दुनिया के सामने बड़े स्तर पर ले आएगा।
इसके बाद नास्त्रेदमस ने जो कहा, उसे जान आपके होश उड़ जाएंगे। यह तो सभी जानते हैं कि नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणियों में भारतीय सत्ता की बात कही, जिसके अनुसार नरेन्द्र मोदी एक बेहतरीन सत्ताधारी साबित होंगे।
लेकिन एक अगली भविष्यवाणी के अनुसार नरेन्द्र मोदी भारतीय सत्ता संभालने के बाद अगले 12 सालों तक देश के हित में कार्य करेंगे। जी हां... वर्ष 2026 तक मोदी सरकार भारत पर राज करेगी। यानी कि मोदी जी का प्रधानमंत्री काल काफी लंबा होने वाला है।
मोदी जी के प्रशंसकों के लिए वाकई यह खुशखबरी है, लेकिन देश के लिए यह कितना अच्छा या फिर शायद बुरा भी हो सकता है, यह तो वक्त ही बता सकता है।