माँम भिक्षामदेहि

10 टिप्‍पणियां:

  1. वे सब आज की आधुनिक महिलाएँ थीं. उनके अहम की तुष्टि तभी हुई जब उन्हें आजकल की ख्याति (?) प्राप्त अभिनेत्रियों से जोड़ा गया.आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कहानी बहुत बढ़िया लगी . लिखते रहिए . धन्यवाद्.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज के प्रगतिशील समाज पर एक अच्छा व्यंग है. आज की प्रगतिशील नारी सीता नहीं केटरीना बनना चाहती है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाई साहब
    नमस्कार
    टिप्पणीयों के लिए सभी मित्रो का आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिल्लोरे जी
    आप की कलम में दम है
    बधाइयां

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!