लगाए फिरते हैं तस्वीरें शहीदों की भुनाएंगे

सियासत तेरे ज़लवे देखे हैं
हमने मुफलिसों के तलवे देखे हैं
दफ़न करने इस लाश के पहले
होते बीसियों बलवे देखें हैं
****************
इश्क वफ़ा इकरार ऐतबार
सजे उस की जुबाँ पे
इससे बड़ा झूठ क्या होगा ?
****************
लगाए फिरते हैं तस्वीरें शहीदों की भुनाएंगे
ये नेता हैं इनको तिजारत भी सिखाई है
****************

1 टिप्पणी:

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!