कामन्‍डर का आदेश करो क्रिकेट प्रतियोगिता की तैयारी

पिछले एक दिनो से जबलपुर बिग्रेड पर कामंडर का आदेश दिखाई दे रहा था, भाई कमाड़र का आदेश हो और उसका उल्‍लघंन किया जाये इससे बड़ा अपराध क्‍या हो सकता है। सर्व प्रथम कमाडंर का आदेश आपके सामने रख रहा हूँ।

हमने तो अपनी आदेशित पोस्‍ट डाल दी है, अब कोर्ट मार्शल से बचा रहूँगा। अभी अभी मेरी ग्‍वालियर के दौरे पर गये कामडंर साहब से बात हुई। उनके मन में जबलपुर बिग्रेड के ब्रिगेडियरों और अन्‍य ब्‍लागरों को साथ लेकर एक किक्रेट प्रतियोगिता आयोजित करवाने की है। इस बाबत उन्‍होने बिग्रेडियर गिरीश भाई बिल्‍लोरे जी से बात हो चुकी है। जल्‍द ही बिग्रेड की बैठक में इस बारे में चर्चा होगी और आयोजन समिति अध्‍यक्ष समेत पांच सदस्‍यीय बिगेडियर क्रिकेट कमेटी का भी गठन किया जायेगा।

जबलपुर बिगेड के ब्रिग‍ेडियरों को सूचित किया जा रहा है, वे अपनी उपस्थि‍त सुनिश्चित करे।

5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभकामनाएँ प्रतियोगिता के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अमा खिलाडी तो बनाओगे नहीं ...यार अंपायर ही रख लो....
    कसम से जो किसी को एल बी डब्ल्यू दिया तो ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. अमां देखिये मेल बाक्स में देखिये निमंत्र्ण इंतज़ार कर रहा है हज़ूर का

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या बात है जबलपुर हो और क्रिकेट न हो.. यह तो हो ही नही सकता .. चलिये प्रतियोगिता की तैयारी करें ..।

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!