तारिका-प्रेमी बाबाओं का जमवाडा बनाम भारत-ब्रिगेड

शहर जबलपुर की शान लुकमान  ज़रूर  देखिये   जी  

___________________________________________
अनिल पुसदकर जी को एक बात समझ मे नही आ रही है कि:- ये कथित नेशनल न्यूज़ चैनल वाले लोगों को शिक्षित करने पर क्यों तुले हुये हैं,खासकर हिंदूओं को।सब के सब चिल्ला रहे है ग्रहण के बारे मे धार्मिक या पारंपरिक मान्यताएं बकवास है।सब पानी पी-पी के ग्रहण और ज्योतिषियों के खिलाफ़ आग उगल रहे हैं लेकिन क्या कभी इतनी जागरूकता किसी दूसरे धर्म के अंधविश्वासों के खिलाफ़ दिखाई है।हिंदू मंदिर मे अगर बलि चढ जाये तो सारे देश के नैतिकता और सुधारवाद के ठेकेदार वंहा पंहुच जायेंगे और बतायेंगे सारे हिंदू गलत हैं,सारी मान्यताऐं गलत है।[आगे पढ़िये ]                                     
_____________________________

विशेष सूचना :

भारत-ब्रिगेड के कुछ ब्रिगेडीयर्स ख़ास तौर पर ये और ये न देखें

इधर आदाब-अर्ज़ करते हुए अबयज़ ख़ान ने अर्ज़ है पर अर्ज़ किया की ''चलिए नए साल पर एक खुशख़बरी उन मर्दों के लिए जो शादी के बाद भी पति-पत्नी और वो के चक्कर से निकले नहीं हैं... और खुशख़बरी उनकी पत्नियों के लिए भी जो अपने दिलफेंक मियां से आजिज़ आ चुकी थीं... घबराइये मत... जो काम आपके पति कर रहे हैं वो उनकी ज़िंदगी में तो रंग भर ही रहा है, आपकी शादी-शुदा ज़िंदगी में भी उससे बहार आ जाएगी... अरे ऐसा मैं नहीं कह रहा हूं... बल्कि ये नया राग तो अंग्रेज़ों की देन है...''[और आगे देखिये ]
इन शर्तों के साथ हिन्दयुग्म ने  यूनिकवि की तलाश शुरू कर दी है 

_______________________________________________ 
ब्लॉग  जगत  में  इन  दिनों  जाने  किधर  से  बाबाओं  का  सैलाब  सा  आ  गया  है . बाकायदा अपने अपने मठों से ब्लॉगरूपी ''वृक्ष की जड़ों में '' मठा सींचते लोगों की सोच के पौधों की जड़ों में ये लोग बाकायदा हींग डालते नज़र आ रहे हैं .  .
    बाबा झोटा नंद अचारी बाबा भविष्य वक्ता नंद महाराजश्री-श्री १०८ लंगोटानंदजी महाराज
  • स्वामी भविष्यवक्तानंद
  • झोत्तानंद 
  • लंगोटा नंदजी महाराज
  • बाबा निठ्ठल्लानंद जी
  • श्री श्री साढ़े सात हजार बाबा सांडनाथ !!
  • श्री श्री बाबा शठाधीश जी महाराज
  • महा मठाधीषसमीरा नन्द जी के आश्रम के मुख्य महंत ताऊ हैं तो महा-प्रबंधक-महंत का दर्जा प्राप्त ललितानंद जी  ताऊ के ही मठा डालते हैं 

    महिला प्रभाग की महा-प्रबंधक
    मां अदा चैतन्य कीर्ति महाराज साहिबा जी

    अर्थ-प्रबंधक
    बाबा स्वामी महफूज़ानंद महाराज
    --बाबा प्रॉडक्टस--


    कुंभ की विशेष छूट
    ~~बेहद सस्ते दामों पर~~
    महा सेल-महा सेल-महा सेल
    नोट: ऐसा मौका फिर १२ साल बाद आयेगा.
    चमत्कारी सर्वसिद्धि यंत्र

    - अभिमंत्रित लॉकेट

    - जागृत अंगूठी

    आर्डर और दाम के लिए इन्तजार किजिये. (डीलरशीप के लिए अन्य बाबा संपर्क करें)
    -घोषणा-
    . हमारी कोई ब्रान्च नहीं है.
    . नकलचियों से सावधान.
    . ब्लॉगजगत के एकमात्र सर्टीफाईड एवं रिक्गनाईज्ड बाबा.
    -सबका कल्याण हो!!
    -सूचना-
    कृप्या यहाँ का कोई प्रोडक्ट चुरा कर अपनी वेब साईट पर न लगायें. बिना प्राण प्रतिष्ठा के यह मात्र फोटो हैं और आप फालतू में कानूनी लफड़े में फंस जायेंगे.
    -आश्रम मेनेजमेन्ट

    उपरोक्त अनुसार  ब्लॉग पर बाबाओं के जमवाड़े के लिए सरकार ने इस जमवाड़े के कुछ सदस्यों जैसे इनकी,
    इनकी  और इनकी हरकतों को देखते हुए बाबा रेग्यूलेटिंग एक्ट 2010 लाने का विचार बना लिया है . जिसका मसौदा तैयार करेंगे पंडित ज्ञानदत्त पांडे जी . इनको  अलाहबाद में रहकर बाबाओं के मनोविज्ञान समझने का लंबा अवसर मिला है. रेलवे बिभाग के सुदृढ़ अधिकारी का चयन अन्य विभाग के शीर्ष अधिकारी ब्लागर्स के लिए मानसिक हल चल का विषय बन सकता है अत: जबलपुर ब्रिगेड ने मकर-संक्रांति के दिन से ''भारत-ब्रिगेड'' का स्वरूप अपने डोमिन पर आकर धारण कर लिया है.जो महाशक्ति के प्रयास का प्रतिफल है.  
    ___________________________________________________________
    [HavanBrigMeditate.jpg] महा मठ वाणी से साभार इस चित्र को ले लिया है तो आपको इस लिंक पर चटका लगाके जाना ज़रूरी क्यों है इब क्किकिया दिए हवें तो जाइए बांचिये देखिये का लिखा है बाबा
    _____________________________________________________________
    भाइयो एवं सजग पाठिकाओं
    मकर संक्रांति की शुभ कामनाएं देना-लेना उतना  ज़रूरी जितना तिल्ली  को पचाना और ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचन-बचाना समयचक्र सदा अपनी गति से उम्दा चलता है किन्तु अगर कोई घडी में ही अंगुली कर दे तो उसका दोष समय चक्र को नहीं दिया जा सकता  . एक बेतरीन पोस्ट के लिए मिश्र जी का आभार .
    इस बीच संजीदा होकर लिखे गए इस ब्लॉग की तारीफ़ ज़रूरी है
     मैं भी
     एक  कारखाना
    बनाना चाहती हूँ.!
      घर बनाकर
    उसकी
    छत होना चाहती हूँ ![आगे पढिये ]

                              आज तो इनकी सराहना भी करनी होगी जिन्हौने चाचा लुकमानचचा  को याद किया 











6 टिप्‍पणियां:

  1. सराहना से लेकर....सब एक ही जगह!! :)

    मकर संक्रांति की बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह! भोगी जोगी सभी एक तुला पर,
    अच्छा अंदाज है।

    मकर संक्राति की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ बाबा शालीनता की सीमा लाँघने लगे हैं कल एक ब्लाग पढ कर बहुत क्षोभ हुया इ9न बाबाओं पर लगाम कसें। बाकी लिन्क भी देखरही हूँ धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  4. घोर कलयुग बाबाओं पर अंगुली उठातें है
    हीं ब्लीं विरोधी ब्लागर्स टिपण्णी विहीन भव:

    उत्तर देंहटाएं
  5. हा हा वाह वाह मुकुल जी,
    ये मारा है आपने छक्के पर अट्ठा। अहा!
    कहाँ से कहाँ लाकर पट्का। निर्मला जी बजा फ़रमाती हैं। इन बाबाओं पर लगाम कसना बहुत ज़रूरी है। ऑल ऑफ़ दीज़ गंदा बाबा लोग रुइनिंग द हिन्दी ब्लॉगजगत। एम आय राँग ?

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!