नवगीत: रंगों का नव पर्व बसंती ---संजीव सलिल

रंगों का नव पर्व बसंती

रंगों का नव पर्व बसंती
सतरंगा आया
सद्भावों के जंगल गायब
पर्वत पछताया

आशा पंछी को खोजे से
ठौर नहीं मिलती.
महानगर में शिव-पूजन को
बौर नहीं मिलती.
चकित अपर्णा देख, अपर्णा
है भू की काया.
सद्भावों के जंगल गायब
पर्वत पछताया

कागा-कोयल का अंतर अब
जाने कैसे कौन?
चित्र किताबों में देखें,
बोली अनुमानें मौन.
भजन भुला कर डिस्को-गाना
मंदिर में गाया.
सद्भावों के जंगल गायब
पर्वत पछताया

है अबीर से उन्हें एलर्जी,
रंगों से है बैर
गले न लगते, हग करते हैं
मना जान की खैर
जड़ विहीन जड़-जीवन लखकर
'सलिल' मुस्कुराया
सद्भावों के जंगल गायब
पर्वत पछताया

--संजीव सलिल

4 टिप्‍पणियां:

  1. है अबीर से उन्हें एलर्जी,
    रंगों से है बैर
    गले न लगते, हग करते हैं
    मना जान की खैर
    Waah! bahut satik ..! behtreen rachanake liye Aacharyaji ko bahut aabhar!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत मस्त होली गीत..मजा आया आचार्य जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. है अबीर से उन्हें एलर्जी,
    रंगों से है बैर
    गले न लगते, हग करते हैं
    मना जान की खैर
    जड़ विहीन जड़-जीवन लखकर
    'सलिल' मुस्कुराया
    सद्भावों के जंगल गायब
    पर्वत पछताया

    haii dekho to hug kar rahe hain log aur aap pareshaan hai..are abhi tak to ii bhi mil raha baad mein yeho nahi milega...samjhe na..

    bahut khoob...

    उत्तर देंहटाएं
  4. गीत सराहा, धन्यवाद लें, सफल हुआ लेखन.
    मिलें अदा से अदा गले तो धरती हो मधुवन..
    हग में नहीं मज़ा वैसा, जैसा है गले मिलने में.
    हग में है गैरियत, गले मिलने में अपनापन..

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!