ब्लाग जगत ने कहा -“चिरायु भव:अक्षय कात्यानी “

http://4.bp.blogspot.com/_p4fwR-VKt70/S9XfoBgwnZI/AAAAAAAACKk/7QM0fMf-rUg/s1600/azad3.jpg
अक्षय कात्यानी
अविनाश वाचस्पति जी ,सीमा गुप्ता जी,मनोज कुमार शर्मा,बी एस पाबला जी से लेकर कई ज्ञात-अज्ञात ब्लागर्स ने जब सहयोग का हाथ बढ़ाया तो अक्षय कात्यानि के पिता श्री सुधीर कात्यानी का मन कृतज्ञता से भर गया कल शाम तक बिना अपने आप को प्रकाशन में लाये हिन्दी ब्लॉग जगत से Rs.37,000=00 की राशी एकत्र हो चुकी है. मुझे तो सुनाई दे रहा है   ब्लॉग जगत का यह उदघोष “चिरायु भव:अक्षय कात्यानी “  हिन्दी ब्लॉग ज़गत के इस अनुकरणीय पहलू को भी देखना ज़रूरी है ............... 
हिन्दी ब्लागिंग और ब्लागर्स की ताकत को कम आंकना सबसे बड़ी भूल हो सकती आज़ हिंदी ब्लागर्स ने साबित कर दिया कि भारतीय-संस्कृति और उससे  संस्कारित ब्लागर सिर्फ़ वाक विलासी नहीं. वरन सच्चे इन्सान हैं.
कई ब्लागर साथीयों नें नाम का उल्लेख करने से रोका है मुझे उपर लिखे नाम भी साथियों से बिना अनुमति के लिखे गये हैं.  



5 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ा दुःख हुआ अक्षय की स्थिति जान कर

    कल जब दीपक मशाल जी ने बताया तो मैंने उनसे भी कहा था कि रब कि कृपा से सब जल्दी ही इंतज़ाम हो जाएगा

    आज आप से भी कहना चाहता हूँ कि अपने साथी कि इस अवस्था में हम सब बराबर सम्मिलित हैं और इलाज के अभाव में उसे कोई आंच नहीं आने देंगे

    अक्षय जल्द ही स्वस्थ होंगे

    ऐसी आशा भी है और कामना भी.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. अक्षय जल्द ही स्वस्थ होंगे

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी शुभकामनायें भी अक्षय के साथ हैं…सहायता कैसे की जा सकती है?

    उत्तर देंहटाएं
  4. अक्षय को हमारी अनेकानेक शुभ कामनायें । जल्दी ही स्वास्थ्य लाभ करेंगे ।
    आगे सहायता की जरूरत हो तो बतायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी शुभकामनायें अक्षय जल्द ही स्वस्थ होंगे

    regards

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!