जबलपुर कार्यशाला पहली रपट

मित्रो
सादर अभिवादन कल देर रात तक चली कार्यशाला के फ़ोटोग्राफ़्स आधिकारिक रपट के   सहित सम्पूर्ण ब्लाग्स पर संप्रेषित किये जा रहे हैं.
        सादर

7 टिप्‍पणियां:

  1. लो पहली सीट पर तो खुद उडन जी ही इंतज़ार करते पाए गए हैं ....हम कोई और ज़ार करेंगे ...पहले आप रिपोर्ट को गुलज़ार करिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ई का है भाई? हम हीं घुमाय दिए? कहाँ है रपट और फोटुआ ?
    अच्छा मुरख बनाय हो बबुआ !
    माँई के 'धार' दिए नाही.भूत,परित,पलीतां को याद किये नाही.
    पूरबजो को,अकाल मरी गए लोगो को सुभ काम में याद करने का रीत नही है का हमारे देस में? है ना? तो फिर 'हमका' काहे भूल गए? हा हा
    इब हिंया भी ठिठोली किये.बस बिल्लोरे जी को चिपकाय दिए.
    जय हो.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहना यही है कि छा गये आप ....पूरे पृष्ठ पर ही नही सारे आयोजन पर भी

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!