ब्लाग सेतु एग्रीगेटर : हिंदी ब्लागर्स को इंतज़ार था वर्षों से

चिट्ठाजगत और ब्लागवाणी के बंद होने के पांच बरस बाद एक पहल  धर्म और दर्शन एवम चलते -चलते...! के स्वामी भाई केवलराम की प्रस्तुति ब्लागसेतु के रूप  सामने आई एग्रीग्रेटर के बंद होते ही हिंदी ब्लागिंग के विकास के लिये हमें सोशल साइटस पर निर्भर रहना पड़ा . पाठक मिले परंतु फ़टफ़टिया पाठक जो लाइक तक सीमित पाए गए. ऐसे में हिंदी ब्लागिंग का आकार सिकुड़ता- सिमटता नज़र आने लगा . सत्य ही है.. आवश्यकता अविष्कार को जन्म दे ही देती है.  अस्तु न्यू-मीडिया के युवा हस्ताक्षर भाई केवलराम ने अपनी क्षमता और जीवटता के साथ एग्रीगेटर तैयार कर ही लिया. 
उनके एग्रीगेटर से जुड़ने कुछ खास शर्ते एवम नियम हैं..
ब्लॉग जोड़ने वाले इस पृष्ठ पर आपका स्वागत है
महत्वपूर्ण निर्देश:-
·          इस पृष्ठ पर आपको बहुत सावधानी से कार्य करना है. आपके द्वारा दी गई हर एक सूचना आपके लिए तो लाभदायक है ही, साथ ही साथ इससे आपके ब्लॉग के विषय में पाठकों को भी आसानी होगी. इस पृष्ठ पर आपको यह चरण पूरे करने हैं.
·          सबसे पहले आप उस प्लेटफॉर्म का चयन करें जिस पर आप ब्लॉग लिखते हैं.
·          जिस ब्लॉग को आप जोड़ना चाहते हैं सबसे पहले http:// के साथ उस ब्लॉग का लिंक/यूआरएल यहाँ दर्ज करें, फिर शीर्षक लायें पर क्लिक करें. आपके ब्लॉग का शीर्षक और उसके निर्माण की तिथि से सम्बंधित जानकारी स्वतः ही आपको प्राप्त हो जाएगी.
·          अब आपको अपने ब्लॉग के प्रकार का चयन करना है. इसमें हमने दो श्रेणियां बनायीं है :
·          पहली श्रेणी के अंतर्गत व्यक्तिगत ब्लॉग को रखा गया है. एक ही द्वारा लिखे जाने वाले ब्लॉग को इस श्रेणी में दर्ज कर सकते हैं.
·          दूसरी श्रेणी के अंतर्गत सामूहिक ब्लॉग को रखा गया है. ऐसे ब्लॉग जिनका मोडरेटर कोई एक ब्लॉगर है, लेकिन इन ब्लॉगों में कई ब्लॉगर सदस्य हैं और वह इन ब्लॉगस पर अपनी पोस्टें डाल सकते हैं.
·          जिस ब्लॉग को आप ब्लॉग सेतु से जोड़ने जा रहे हैं उस ब्लॉग पर आपके द्वारा लिखी गयी पहली पोस्ट की तारीख दिए हुए स्थान पर भरें और फिर तारीख की जांच करें पर क्लिक करें.
·          जब आपके ब्लॉग की पहली तारीख सत्यापित हो जायेगी, तब ही आपको अपने ब्लॉग को जमा करने का बटन दिखेगा. लेकिन इससे पहले आपको अपने ब्लॉग की श्रेणी का भी चयन करना है, जो कि बहुत महत्वपूर्ण है.
·          अगला चरण आपकी ब्लॉग श्रेणियों का है. यह आपके ब्लॉग के लिए सबसे महत्वपूर्ण चरण है. यहाँ आपको थोडा समय देना है और बहुत ध्यान से अपने ब्लॉग को उस श्रेणी में जोड़ना है, जिस पर आप ज्यादा लिखते हैं. इसमें मुख्य श्रेणी के बाद उप श्रेणी का चुनाव करना है और अगर उस उप श्रेणी की कोई और उप श्रेणी होगी तो वह भी आपको दिख जायेगी. अगर आपके ब्लॉग की श्रेणी इस सूची में नहीं है तो आप हमें सूचित कर सकते हैं. हम उस श्रेणी को भी जोड़ने का प्रयास करेंगे. यह ध्यान रहे कि ब्लॉग सेतु के मुख्य पृष्ठ पर ब्लॉग पाठकों को आपके ब्लॉग की पोस्ट उप-श्रेणी में ही दिखाई देगी. जिससे उसे उस श्रेणी से सम्बंधित और ब्लॉगों तक पहुँचने में आसानी होगी.
·          ब्लॉगसेतु ब्लॉग एग्रीगेटर पर आप अधिकतम पांच ब्लॉग जोड़ सकते हैं.
·          विशेष :- ब्लॉगसेतु में जोड़े गए हर ब्लॉग और उस पर आने वाली पोस्ट पर हमारी नजर रहेगी, अगर कोई ब्लॉग या पोस्ट ब्लॉगिंग के मानकों के अनुसार सही नहीं पाया जाता है तो उस ब्लॉग और पोस्ट से सम्बन्धित सभी प्रकार के निर्णय का अधिकार ब्लॉगसेतु टीम के पास सुरक्षित है.
  मित्रो हिंदी ब्लागिंग मे इस एग्रीगेटर को अब आपके स्नेह की ज़रूरत है............

केवल राम हिंदी ब्लॉगिंग के बेहद उदीयमान हस्ताक्षर, न्यू मीडिया, तकनीक और साहित्य के बदलते स्वरूप और प्रभाव पर विशेष रूचि एवं अध्ययन, भारतीय साहित्य, संगीत और संस्कृति, धर्म और दर्शन से गहरा लगाव . विभिन्न पत्र - पत्रिकाओं के लिए नियमित लेखन !
संपर्क
फोन : 094592- 85964
 केवलराम जी  से जुड़े
kewalanjali84@gmail.com
ई मेल
अंतर्जाल पर उपस्थिति :
  

2 टिप्‍पणियां:

  1. आप सभी बधाई के पात्र के हैं। शीघ्र ही इस पर एक तकनीकि पोस्ट की तैयारी है!

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!