सुबह के लिए

रात गहरी नींद सोना है जरूरी
कल सुनहरी भोर का आना नियत है।
सपन अठखेलियाँ भोर तक चलतीं रहीं
आम पर कोयल का गाना नियत है।।
**********
दिन दोपहरी शाम तक का दोड़ना , किसी से मिलाना किसी को छोड़ना।

गया वो जाने दो उसको जो विगत है , सब को वो ही मिलेगा जो कि नियत है। ।
कल .........................................
***************
मनचले लोगों ने आके इस शहर में,रात उसनीदे गहरे प्रहर में !
द्वार गलियों के बजाए और डराया,कर गए सब कुछ मद के असर में।।
बड़े भीरु सुबह उठ कुछ भी न बोले, सिद्ध करते कि वो कितने विनत हैं!!
*****************
लोग हैं चालाक चतुराई के पुतले,कलई के बरतन सरीखे कितने उजले!
गिरागिटों को शर्म अब आने लगी है,आदमी से जल्द रंग जिननें न बदले!!
दम हिलाते -भोंकते स्वानों से आदमी ने ये जीने की जुगत है ,
*गिरीश बिल्लोरे "मुकुल "

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!