एक साथी एक सपना साथ ले

ज़ाकिर हुसैन
''एक साथी एक सपना साथ ले, हौसले संग भीड़ से संवाद के ।''
ज़ाकिर हुसैन चाहतें हैं सबसे सहयोग : 30 जून 1982,को जन्मे ज़ाकिर-हुसैन डटें हैं मुंबई में अपने भविष्य को सवारने !आभास-जोशी के बाद मध्य-प्रदेश के अंग रहे छत्तीसगढ़ का यह गायक वास्तव में सपनों की पोटली लिए अपने मित्र अविनाश के साथ माया-नगरी में ज़ोर आज़माइश कर रहा है।संगीत के रसिकों की नजर में ज़ाकिर के हाई और लो नोड नियंत्रित हैं . गायन में सहज़ता है . इसी कारण अन्तिम दस में स्थान पाने में ज़ाकिर हुसैन सफल हुए हैं . चूंकि रियलिटी शो का वोटिंग फार्मेट ऐसा की जो वोट पाएगा वो ही आगे बड़ता जाएगा. अत: ज़ाकिर ने सहयोग की मार्मिक अपील करते हुए मुझसे गत रात्रि टेलीफोनिक बात चीत के दौरान कहा कि- मुझे नहीं मालूम कि मैं कैसे मध्य-प्रदेश के संगीत प्रेमियों तक अपनी बात रखूँ भैया अगर आप जबलपुर मीडिया के ज़रिए मेरीआकांक्षा व्यक्त करने में सहायता करें तो तो तय है कि छत्तीसगढ़ और सारा देश मिल कर मुझे और आगे तक ले जा सकता है ! छत्तीसगढ़ के इस युवक का सम्बन्ध एक सामान्य मध्यम वर्गीय परिवार से है. १२ वीं तक शिक्षित के रोज़गार का ज़रिया आर्केष्ट्रा रहा है. जन्म के एक बरस बाद पोलियो की गिरफ्त में आए ज़ाकिर की दो संतानें हैं , आभास जोशी स्नेह मंच के सदस्यों द्वारा ज़ाकिर हुसैन को वाइस-ऑफ़-इंडिया द्वितीय के पक्ष में टेली एवं एस एम् एस वोटिंग करने-कराने की अपील की है . आभास जोशी के भाई श्रेयश जोशी ने ज़ाकिर के बारे में कहा - "अपनी तरह की अनोखी आवाज़ है जाकिर की रफी के गीतों को गाने की जोखिम कम ही गायक उठातें हैं लेकिन जाकिर जिस मौलिकता के साथ सहजता से रफी साहब को स्वीकारा है उसका ही परिणाम है कि सब का ध्यान ज़ाकिर जी अपनी और खींच लेते हैं "

3 टिप्‍पणियां:

  1. भगवान करे , जाकिर हुसैन की बातें सारे भारतवासियों तक पहुंचे और वे सफलता के शिखर तक पहुंच सके। बहुत बहुत शुभकामना उनको। आपको जन्माष्टमी की बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. संगीता जी त्रिपाठी जी
    सादर अभिवादन स्वीकारिए साथ ही साथ
    जन्माष्टमी की बहुत बहुत बधाई।
    ज़ाकिर के लिए शुभ कामनाओं
    से अभिभूत हूँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!