बुआ वाला भोपाल

कला बुआ वाला भोपाल
मामाजी वाला भोपाल
मेरा नही हम सबका भोपाल
जिसे निगला था मिथाइल आइसो सायानाईट के
धुंएँ ने जो
समा गया था देहों में उन देहों में
जो निष्प्राण हो गयीं
जो बचीं वे ज़र्ज़र आज भी कांपते हुए जी रहीं हैं
उनमे मेरी कला बुआ जो देह में बैठे प्राण को आत्म-साहस के साथ
सम्हाले रखीं हैं ,
बुआ रोज जीतीं हैं एक नई जिंदगी
उन लोगों को याद भी करतीं हैं
शाह्ज़हानाबाद की आम वाली मस्जिद में उनके आसपास रहने वाली आशा बुआ, अब्दुल चाचा,
जोजफ सतबीर
यानी वो सब जिनकी अलग अलग इबादतगाहें

2 टिप्‍पणियां:

  1. कविता प्रभावशाली है ।
    भोपाल गैस काण्ड पर इन कविताओं को भी देखिएगा।लगे तो राय दीजिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रिय गिरीश जी /आज के भास्कर के रसरंग में राजेश जोशी जी का आलेख ""पहल "पत्रिका वाबत प्रकाशित हुआ है एवं श्री ज्ञानरंजन दी द्वारा पूर्व में कलकत्ता में दिए गए भाषाण का अंश भी प्रकाशित हुआ है

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!