पुराने जोड़े यूँ मनाएं वैलेनटाइन-डे

इश्क कीजे खुलकर सरे आम कीजे भला पूजा भी कोई छिप-छिप के किया करता है..?
मेरे महबूब तुझसे इज़हार-ए-तमन्ना न कर सकने के कारण जो भी थे उन में उस वक़्त की मेरी मज़बूरियाँ थीं . और अब गुलाब तुमको भेजना ग़लत है .... तब भी तुम मुझे अक्सर याद आ ही जातीं हो ...? क्यों क्या मेरी बेबसी को तुम समझ न सकी थीं ...... तुमने ये गीत मुझे सुनाने के बहाने कितने बार गुनगुनाया होगा ?
और उन दिनों मैंने ये गीत कितनी बार गाया समझा तुम समझ न सकीं ।
"मेरे महबूब'' माना की वो दौर सादगी का था संजीदगी का था फ़िर मुझसे भी तो भूल हुई गोया मैं ये
गीत गा देता और तुम समझ जातीं ये गीत गातीं फ़िर मैं डोली लेकर तुम्हारे आँगन आने बेताब हो जाता .
ये सब न हुआ कोई बात नहीं तुम मेरी थीं हो और रहोगी । अब देखो न हमारे बच्चे बड़े हो रहें हैं दिन भर की बेकाबू व्यस्तताओं के बीच मनाएं प्रेम दिवस रोज़ मनाएं न बजरंगीयों का डर है यहाँ न तालिबानों का .... मेरे रहबर तुम एक मुसलसल प्रेम गीत की भूमिका हो मुझे मत भूलना अब मैं ऐसे मदिर और रूमानी - से ऊपर आ गया हूँ तुम भी प्रेमिका नहीं मेरी आत्मा हो चुकी हो आओ हम प्रीत में खो जाएँ । औरों को मणि-कंचन-संयोग की बानगी बताए ।
*हर *अन्दर लाइन शब्द *के *पीछे*एक रूमानी*गीत*सुनिए*और प्रेम दिव*मनाइए *

3 टिप्‍पणियां:

  1. " सभी गीतों को सुन कर बस वाह वाह वाह और खास कर " मेरे महबूब कयामत होगी अज रुसवा तेरी गलियों में मोहब्बत होगी....इस गीत से मुझे दीवानगी की हद तक प्यार है.... सभी गीतों के लिए आभार.."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम तो बस इतना ही कहेंगे मुकुल जी के हम सीमाजी की टिप्पणी में कही गई हर बात से सहमत हैं। लाजवाब गीत और बेहतरीन सलाह हा हा। आभार।

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!