बड़ी नाव की ज़रूरत है अब


उन दिनों फिर भी कम लोग ही थे अब तो लिस्ट में नए नाम दर्ज हो रहे हैं रोजिन्ना ही

सभी ब्लॉगर की और से शुभ कामनाएं

दुबे जी शीघ्र ही बड़ी नाव बनाने जा रहे है इन सबके लिए

समीर लाल जबलपुर/कनाडा
महेंद्र मिश्र जबलपुर
गिरीश बिल्लोरे जबलपुर
डूबे जी जबलपुर
डाक्टर विजय तिवारी जबलपुर
शैली खत्री जबलपुर
विवेकरंजन श्रीवास्तव जबलपुर
अजय त्रिपाठी जबलपुर
संजीव वर्मा "सलिल" जबलपुर
साज़ जबलपुरी जबलपुर
पंकज गुलुश जबलपुर
आचार्य भागवत दुबे जबलपुर
गार्गी शरण मिश्र जबलपुर
आनंद कृष्ण जबलपुर
जिन ब्लागर्स का उल्लेख नहीं हो सका भूल के लिए माफी दैदो

1 टिप्पणी:

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!