भेज दो लिख कर ही प्रेम संदेश



तुम जो रूठ जाती हो मुझसे
डेरों शिकायतों के पुलिंदे खोल देतीं हो
हाँ तब मुझे यकीन हो जाता है तुम सिर्फ़ मेरी प्रिया हो
तुम्हारा अपना चिंतन मुझमें क्या खोज रहा है
अनजान हूँ
जब तब की तुम्हारी उग्रता
अक्सर मुझे संकेत देती है
मैं शायद तुम्हें कुछ पलों के लिए बिसर गया
प्रिया
इस रूठी
भुनभुनाई
आंसू बहाती

तुम जब मेरी आर्त-ध्वनियाँ सुनती हो तब
तुम्हारा मेरे पास आ सहज हो बैठना
मुझे रास आता है
अब खुल के कह दो की तुम ही मुझे प्रीत रंग
से भिगो देने वाली हो
ये बार बार का रूठना
सुकोमल मन को घायल करता है
मुझे आता है पहल करना
प्रीत का अनुनाद मन के विस्तृत आकाश में भरना
परन्तु प्रिया अनुशासन मेरे स्वरों को रोकता है
पहल तुम्हें ही करनी है
भेजना है प्रेम का प्रथम संकेत
सच है न कोई भी पुरूष सर्वप्रथम कभी नहीं खोलता मन के भेद
भेज दो लिख कर ही
प्रेम संदेश

3 टिप्‍पणियां:

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!