शोक समाचार

ख्यातिलब्ध कवि रचनाधर्मी विजय शंकर चतुर्वेदी के साले साहब का जबलपुर में सड़क हादसे में दु:खद निधन हो गया है।
"दुखी परिजनों को ईश्वर इस महाशोक के सहने की शक्ति "
एवं
दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करे
शान्ति शान्ति शान्ति
chaturvedi_3@hotmail.com दूरभाष :09324298021


4 टिप्‍पणियां:

  1. दिवंगत आत्मा को ईश्वर शांति प्रदान करे.

    उत्तर देंहटाएं
  2. विजयशंकर जी के इस पारिवारिक दुःख में हम सब उन के साथ हैं।
    मृतक को हार्दिक श्रद्धांजलि!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ईश्वर शांति प्रदान करे.श्रृद्धांजलि.

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!