उड़न तश्तरी ..की चिंता जायज है

उड़न तश्तरी .  ये जो भी  हो  रहा   क्या अच्छा हो रहा है?
होना तो ये था तय तो यही था



"गौतम"  ने जो चित्र प्रस्तुत किया है उससे भी ज़रूरी विषयों पर अगर हम समय जाया कर और करा रहें हैं तो ठीक है वर्ना सच हमारा मिशन सिर्फ और सिर्फ मानवता के  रक्षण से सम्बंधित होना ज़रूरी है. केवल धार्मिक सिद्धांतों की पैरवी तर्क-कुतर्क /वाद प्रतिवाद / हमारे लिए गैर ज़रूरी इस चित्र के सामने.......!!

का यह चित्र आपने न देखा हो तो अपने शहर के कूड़ा बीनने वाले बच्चों को देखिए जो होटलों से फैंकी जूठन में  भोजन तलाशते बच्चों को सहज देख सकतें हैं
http://www.abroaderview.org/images/vietnam/hanoi/Street_children_in_Sapa.jpgमित्रों  आप भी गौर से देखिये इस चित्र में मुझे तो सिर्फ बच्चे दिख रहें हैं और इधर भी देखिए =>  {यही आज का सबसे  ज़रूरी विषय है }
इसको आप ने नहीं पहचाना..... इस दीन के लिए ही तो देवदूत संदेशा लातें हैं. देववाणी भी इनकी ही सेवा का सन्देश देती है मेरे वेद तुम्हारी कुरान  ....उसका ग्रन्थ .... इसकी बाइबल क्या कुतर्क के लिए है . फिर तुम्हारी मेरी आस्था क्या है ... जिसकी परिभाषा ही हम न जान पाए मेरी नज़र में आस्था 
हम बोलतें हैं क्योंकि बोलना
जानते हैं किंतु आस्था बोलती नहीं
वाणी से हवा में ज़हर घोलती नहीं
सूखे ठूंठ पर होता है जब
बूंद बूंद भावों का छिडकाव
स्नेहिल उष्मा का पड्ता है प्रभाव
तभी होता है उसमें अंकुरण
मेरे भाई
यही तो है आस्था का प्रकरण...!!     


 सच प्रेम ही इस संसार की नींव है इसे सलीम/जोज़फ़/कुलवंत/गिरीश जैसों की क्षमता नहीं की झुठला सकें 

4 टिप्‍पणियां:


  1. कुछ लोग जीते हैं मस्ती में
    भले आग लगी हो बस्ती में

    जो जहाँ है, बस अपने खूँटे पर ही मुग्ध है,आप लिखा करें
    ऎसे लोगों पर यह पोस्ट , तबेले में बीन बजाने जैसा ही है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सब सही ही है तो क्या कहा जाये भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी एक पंक्ति थी ऐसे चित्रो के बारे मे .." किसी मल्टिनेशनल पत्रिका के मुखप्रष्ठ पर छप कर आने के लिये ..." जैसी । यह इस सदी का यथार्थ है

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!