ललित जी के मोहल्ले के भाग्यशाली लोग जो दफ्तर सही समय पर जातें हैं

जबलपुर ब्रिगेड के  ब्रिगेडियर महफूज़ जी ने  यहाँ एक साथ आपने इतने लोगों को अपना पन  देके कैद कर लिया अपने पास ऐसी कैद-कर सकने  की  रब सारे ब्लागर्स को दे यही सोच से ही  हिंदी में  उम्दा बातें इस जाल पर छा सकतीं हैं . रवीन्द्र प्रभात जी तो अक्टूबर माह से ही स्नेह रस बरसाने लगतें है  उनकी परिकल्पना भी अनोखी है सब को जोड़ते हुए ब्लॉग'स का वार्षिक विश्लेषण कदापि सरल काम नहीं है. इधर बी एस पाबला को भी कोई घमंड नहीं है की वे सभी को एक सूत्र में जोड़ रहें हैं "जन्म-दिन की सूचना देकर" कुल मिला कर अच्छाई अभी तक ज़िंदा है , See full size image  मूछों पे ताव देकर को भी चुनौती दे सकता है किन्तु ललित शर्मा जी  जी किसी की मदद करने के बाद ही अपनी मूंछों पर अंगूठे-तर्जनी को घुमाया फिराया करतें हैं. और ताऊ महाराज के क्या कहने  खूब ज़बरदस्त आत्मीयता बाँट रहे हैं .
_________________________________________________________________________________________________
सु          सुभीता-खोली में किये गए चिंतन से उपजी यह पोस्ट सबके सामने लाना ज़रूरी है अत: इधर टांक  रहा हूँ  


की मूंछें देखिये और नीचे वाले फोटो  को देख कर जानिये दफ्तर जाने के लिए सबसे सही समय कौन बता सकता है ?
 
घडी सही है या शर्मा जी मेरे हिसाब से शर्मा जी ऐसा इस लिए कि हर दफ्तर जाने  वाले को शर्मा जी चेहरा याद करके दफ्तर के लिए एक घंटे पूर्व घर से निकलना चाहिए . अब सवा नॉ बज चुका है आप झट एक टिप्पणी छोडिये और दफ्तर के लिए निकलिए .
-ललित जी, (मुझे माफ़ कर देना) आपका स्मरण हो आया और   लगा कि दफ्तर जाने का सही समय आप की मूंछों से बेहतर कौन सुझा सकता है घडी का क्या चली चली न चली सच आपके मोहल्ले में आप की मूंछें ही ही याद दिलाती होंगीं.......   हमारे  मोहल्ले में तो सारे अड़ोसी-पड़ोसी मुछ मुंडे हैं  और हम रोज़ दफ्तर जाने में लेट हो जातें हैं आपके  मुहल्ले के करमचारी  कितने  भाग्यशाली है ....!
है न .......?   
 _____________________________________________________________________________________________ 

अजय भाई की यह प्रेम कहानी जब घर मन पता चली तो हमारी जैसी दुर्दशा करवा दी तनेजा जी ने
बीवीयाँ सब सह लेतीं हैं किन्त सौतन की कल्पना भी नहीं सह पातीं तनेजा साहब

जब ये तस्वीर देखी श्रीमती जी ने तो हमारी वो ख़बर ली की हमारे चेहरे के हवाइयां और तस्वीर के सारे रंग उड़ गए
 
__________________________________________________________________________________
खैर छोडिये हम भी क्या बात कर रहे आज तो े ब्लॉग जबलपुर-ब्रिगेड को खूबसूरत बना दिया ललित जी ने कौन वही ख़ूबसूरत मूंछों वाले जिनने सुभीता-खोली  ,के महत्त्व पर मीमांसा के है .चलो सारे ब्रिगेडियर साथियो  "सेल्यूट करो तो ललित जी को "जे वाला आदेश "मिस रामप्यारी" ने भेजा है 
_____________________________________________________________________________________

15 टिप्‍पणियां:

  1. ललित जी को (मूछों समेत) सैल्यूट.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जय हो भैया, सुभीता चिंतन का समय हो गया है, आते एक धांसु पोस्ट ठेलते हैं। हा हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई परमिंदर जी
    मूंछों पे कछु न कहोगे ?
    वरमा सा'ब मेल भेज दीजिये
    ब्रिगेडियर नहीं बनाना है क्या ?
    भाई ललित जी अपन तो चिंतन
    कर लिए हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  4. ललित जी की तो बात ही कुछ और है!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. तौबा तौबा ये झा जी को क्या हो गया? जै हो जबलपुर ब्रिगेड की

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया! बहुत ही रोचक पोस्ट लिखी है.....अजय जी के फोटो बहुत बढ़िया है.....।अब ललित जी के कारण अगर लोग सही समय पर दफतर पहुँचते हैं तो.उन का आभार मानना चाहिए...जो सही समय की प्रेरणा बने हुए हैं:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. बाली जी
    आभार पधारने का
    उनसे ज़्यादा उनकी मूंछों का महत्त्व है
    इस मामले में , सुना है छत्तीसगढ़ में बड़ा
    हल्ला है उनकी मूंछों का

    उत्तर देंहटाएं
  8. इनकी मूँछें देखकर तो लोग "नत्थूलाल" की मूँछें भूल चुके होंगें :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. देखो भाई लोगो, म्हारे भतिजे ललित की मूंछों को नजर मत लगावो, पहले सीधे से समझा दिया है, पूरे ब्लाग जगत मे एक ही तो बांका मूंछ वाला जवान है?

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. Hum apni munch ke hisab se 7:25 par nikal jate hain aur latit ji munch ke samay coffee break.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. गिरीश जी आपने हल्ले के बारे में ठीक ही सुना है :-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. मूछों से ये समय देखने का तो बहुत बढिया जुगाड़ सुझाया है आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  13. BHAI MOONCHHEN HON TO LALIT JI KI TARAH AUR PAGDI HO TO GIRISH JI KE JAISA...


    REGARDS


    RAM K GAUTAM

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!