ब्रिगेड के एक नियमित पाठक कवि बसंत मिश्र

3 टिप्‍पणियां:

  1. बसंत जी का ब्रिगेड पर आने का आभार. आनन्द आया उनकी रचना सुनकर:

    अब अक्सर दुश्मन होते हैं हाथ मिलाने वाले लोग....

    -क्या बात कही है. मेरी बधाई प्रेषित करें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बसंतं जी के दर्शन पा कर खुशी हुई, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बसंत जी से मिल कर बहुत खुशी हुयी रचना बहुत सुन्दर लगी । धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!