यहाँ तीर्थ तुल्य माता होती

मेरे प्रिय गीतकार गुरु घनश्याम चौरसिया  बादल  की रचना जो दिल की गहराइयों में आज तक सम्हाली हुई है आप सभी के लिए सादर प्रस्तुत है

5 टिप्‍पणियां:

  1. नोट: लखनऊ से बाहर होने की वजह से .... काफी दिनों तक नहीं आ पाया ....माफ़ी चाहता हूँ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया गाया. गीत अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. करता पश्चिम अगुवानी है??

    मैं समझता हूँ पूरब अगुवानी कर रहा है और पश्चिम अनुसरण कर रहा है...यह गीत के भाव होना था..क्या मैं सुनने में कुछ गलत या समझने में कुछ गलत??

    उत्तर देंहटाएं
  4. जितना सुन्दर गीत ठीक उतनी ही सुन्दर रही प्रस्तुति... सुनाने के लिए आभार 'मुकुल' सर
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!