ब्लॉग में अपार संभावनाएं हैं : कनिष्क कश्यप



The Representative Voice of 
Hindi Blogs

ब्लॉगप्रहरी के कल्पनाकार कनिष्क कश्यप से हुई भेंट वार्ता सादर सुधि श्रोताओं के लिए सादर प्रस्तुत है ''संवाद एवं विमर्श'' पर इधर  पेश  है  .

4 टिप्‍पणियां:

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!