खबरनवीसी कोई चुगल खोरी का धंधा नहीं मेरे दोस्त

भारतीय जनता पशु नहीं है

निजता के मोल लेख में डॉ॰ मोनिका शर्मा ने स्पष्ट किया कि महज़ टी आर पी के चक्कर में क्या कुछ जारी है. खास कर रियलिटी के नाम पर अंधाधुन्ध की जा रहीं कोशिशें उफ़्फ़ अब देखा नहीं जाता. उन्हैं जो खो रहे हैं पैसों के लिये अपना ज़मीर, अपना सोशल स्टेटस, यहां तक कि अपने वसन भी.  यही "उफ़्फ़"  उनके लिये भी जो कि अक्सर भूल जातें चौथे स्तंभ की गरिमा और प्रमुखता दे रहे होते हैं सनसनाती खबरों पर .
जब अखबार या चैनल किसी के पीछे पड़तें हैं. रिश्ते भी रिसने लगते हैं. तनाव से भर जाता है  ज़िंदगियों में इसे क्या कहा जावे.मेरे पत्रकार  एक मित्र का अचानक मुंह से निकला शब्द यहां कोड करना चाहूंगा:-"खबरनवीसी  कोई चुगल खोरी का धंधा नहीं मेरे दोस्त" यह वाक्य उसने तब कहा था जब कि वह एक अन्य पत्रकार मित्र से किसी नेता के विरुद्ध भ्रांति फ़ैलाने के उद्येश्य से स्टोरी तैयार कर रहा था के संदर्भ में कहे थे. आज़कल समाचार,समाचारों  की शक्ल में कहे लिखे जातें हैं ऐसी स्थिति नहीं है. जिसे देखिये वही हिंसक ख़बरनवीसी में जुटा है. निजता का हनन चाहे जैसे भी हो, हो ही जाता है. चाहे खबरनवीस करें या स्वयम हम स्वीकारें.यहां मानव अधिकारों की वक़ालत करने वाले खामोश क्यों....? यही सवाल सालता है बुद्धि-जीवियों को. एक बार मेरे बड़े भाईसाहब से उनके एक परिचित ने  पूछा:-"फ़लां स्टेशन पर प्लेट फ़ार्म की प्रकाश व्यवस्था ठीक नहीं है "
भाई साहब ने पूछा:-आप को कैसे मालूम ?
परिचित:-"अखबार में देखा "
भाई साहब:- "आज़ आपके घर का मेन गेट का लाईट बल्व बंद है क्या जलाया नहीं आपने ?"
   परिचित अवाक़ उनका मुंह ताकते कुछ देर बोला :- आज मंगलवार हैं न बाज़ार की छुट्टी थी सो मैं  ट्यूब-राड खरीदने न जा सका ...... ?
_____________________________________________
बात तीन बरस पुरानी  है जब मैं अपने क्षेत्रीय दौरे के समय एक आंगन वाड़ी केंद्र पर रुका मेरा अधिकारी भी साथ साथ था, केंद्र पर दो कर्मचारी होते हैं उनमें से प्रमुख कार्यकर्ता गायब थी  केंद्र पर कुछेक बच्चे  मिले एक बच्चा तो ज़मीन में धूल खाता नज़र आया ऐसी स्थिति कई बार  मैने भी देखी थी सो मैनें उसका पिछला रिकार्ड देखते हुए उसे नोटिस दिये नियमानुसार कार्य से हटा भी दिया जो अमूमन मेरी रुचि के विरुद्ध है तीसरे या चौथे दिन राज्य स्तर के एक खबरिया चैनल पूरे दिन उस समाचार को इस तरह चलाया कि शायद मैं अपराधी हूं. क्या यही ज़वाब देही है हमारी ...?
 _____________________________________________
कुण्ठाएं समाज को घृणा से ज़्यादा और कुछ नहीं दे सकती हम उस दौर से गुज़र रहें हैं जो सकारात्मकता में नकारात्मकता खोज रहा है  हम उस दौर से निकल चुकें हैं जब नकारात्मकता से सकारात्मकता खोजी जाती थीं . अखबार न्यूज़ चैनल्स से बस इतनी अपेक्षा है कि इतना करें कि मानवता बची रहे  
___________________________________________

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!