बावरे फकीरा




A TRIBUTE TO SHIRDEE SAI BABA DEVOTIONAL ALBUM
"BAWARE FAQEERA"





Hamako...Dharm,Sampradaay,jaise shabdon ke arth kee janakaaree nahee hai....!!


HAMARA DHARM MANAV SEVA KE ALAAWA OR KUCHH BHEE NAHEE HAI...!


EK ABHAS BAAWARE FAQEERA EEM KAA

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!