इश्मित तुम लौट आओ




इश्मीत
तुम जो
विजेता हो
तुम जो भारत की आवाज़ हो
तुम छोड़ के हमें नहीं जा सकते
इश्मीत
तुम जो सुरों के रथ पे
"गीत" को बादशाह की तरह
ले आते थे....!!
सच तब देवता से लगते थे तुम
माँ,पापा और इस दुनियाँ
को छोड़ कर तुम
अपनी सुर संयोजना के
साथ अनंत में विलीन हो गए
मन बार बार कहता है

तुम लौट आओ
मेरे देवपुरूष तुम्हें मेरी विनत श्रद्धांजलि


3 टिप्‍पणियां:

  1. सच मुच इश्मीत सिँह की मृत्यु का समाचार सुन कर बहुत दुख हुआ।वह अपनें माता-पिता का इकलोता बेटा था।प्रभु उन को यह दुख सहनें की ताकत दे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut dukhad haadsa hua.....eeshvar unke parivaar ko dukh sahne ki taakat de.

    उत्तर देंहटाएं
  3. समाचार सुन कर बहुत दुख हुआ-ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे.

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!