आखिरी पंक्ति बवाल पूरा करेगे

माना कि मयकशी के तरीके बदल गए
साकी कि अदा में कोई बदलाव नहीं है..!
गर इश्क है तो इश्क की तरहा ही कीजिये
ये पाँच साल का कोई चुनाव नहीं है ..?
********************************************
गिद्धों से कहो तालीम लें हमसे ज़रा आके
नौंचा है हमने जिसको वो ज़िंदा अभी भी है
सूली चढाया था मुंसिफ ने कल जिसे -
हर दिल के कोने में वो जीना अभी भी है !
********************************************
यूँ आईने के सामने बैठते वो कब तलक
मीजान-ए-खूबसूरती, बतातीं जो फब्तियां !
-------------------------------------
-------------------------------------?
********************************************

10 टिप्‍पणियां:

  1. अभी तो इतने में ही मजा आ गया..अब बवाल पूरा करें तो दूना हो. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे तो कहाँ हैं बवाल साहब उन्हें बुलाया जाए जरा........आखिरी पंक्तियाँ उनके इंतजार में हैं..."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय मुकुलजी, अकेले आपका हुक्म होता तो कुछ हीला-हवाली भी कर लेते मगर यहाँ तो आपने आदरणीय सीमाजी का फ़रमान भी चस्पा करा दिया। हा हा और सील ठप्पा लाल साहब का। अब टालना नामुमकिन है। मगर ज़रा वक्त अता किया जाए। हा हा। आइने का मुआमल: है ना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह भाई गिरीश जी जब बिना बवाल के ये हाल है तो बवाल का इन्वाल्वमेंट कैसा होगा। जल्द बुलाइए यार उन्हें। इंतज़ार कितना करवाओगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. समीर जी,सीमा जी,महक जी,शशिकांत जी .नहीं ख़ुद बवाल भी थार ठिठक के सोच रहे है
    बकौल बवाल
    "लोग ठिठके, ठहर सोचने ये लगे !
    किसने तूफ़ाँ को छेड़ा है पुरवाई में ?? "
    बाक़ी सनेही जन समीर जी और शशि जी की इस बात से सहमत
    हैं की :-
    बिना बवाल के ये हाल है तो बवाल का इन्वाल्वमेंट कैसा होगा..?
    यानी कोई लफडा किया बवाल ने तो "............" आएगा
    नर्मदे हर .......!!
    हर हर गंगे....!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहले बवालजी द्वारा की गई 'समस्‍या पूर्ति' पढी, फिर आपकी रचना। सुन्‍दर जुगलबन्‍द रही।

    उत्तर देंहटाएं
  7. यानी कि:- "बैरागी मन भीगे क्यों न
    ब्लॉगन-बारिस बहुत तेज है...
    अन्तिम पाठ बिसनु जी बांचें
    सोच रहे थे कवर पेज है ..?
    हा हा हा
    सादर आभार सहित

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर है सलाम आपकी ग़ज़ल को और आपको भी और बबाल जी जो इसे पूरा किया उसको पढ़ कर भी आनंद आ गया

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!