इस आभासी फलक पे आपका विश्वास कैसा..?


मत्स्य गंधी होके जल से आपको एतराज़ कैसा
इस आभासी फलक पे आपका विश्वास कैसा..?
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
पता था की धूप में होगा निकलना ,
स्वेद कण का भाल पे सर सर फिसलना
साथ छाजल लेके निकले, सर पे साफा बाँधके
खोज है मत रोकिये इस खोज में मधुमास क्या बैसाख कैसा ?
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
ओ अनुज तुम बाड़ियों में शूल के बिरवे न रोपो
तुम सही हो इस-सत्य को कसौटी पे कसो सोचो
वरना कुंठा के तले , शक्ति का उपवास कैसा ...?
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

4 टिप्‍पणियां:

  1. लेखक संघ के अध्यक्ष लिखवो सीखो फिर लिखो कछु भी न लिखो मित्र

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी चाहता है कि आपको एक बार फिर सबके सामने बेनकाब करुँ लेकिन
    आप पर समय जाया करना गलत है . आप को आपके कमेन्ट से तो पहचान गया था
    आपके आइ पी एड्रेस तक पहुँचना कठिन नहीं था अस्तु जब आप तकनीकी रूप से अनावृत हुए तो आनंद आ गया
    मित्र आप मुझसे जुड़े रहिए जैसे अभी जुड़े हैं
    सादर अभिवादन
    मुकुल

    उत्तर देंहटाएं
  3. Anonymous said...
    लेखक संघ के अध्यक्ष लिखवो सीखो फिर लिखो कछु भी न लिखो मित्र

    28 March, 2009 7:52 PM

    उत्तर देंहटाएं
  4. वरना कुंठा के तले , शक्ति का उपवास कैसा ...?
    बहुत उम्दा कहा मुकुल भाई। इस गूढ़ बात को इससे बेहतर तरीक़े से व्यक्त नहीं किया जा सकता था।

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!