सिलसिला-ए-उल्फ़त

उनसे मेरी उल्फ़तों का सिलसिला,
चल निकला -- चल निकला




इश्क़ का सैलाब, शक्ले-अश्क लेकर,
ढल निकला -- ढल निकला

--बवाल 
___________________________________
तो बवाल भाई फिर ये भी  आज़मा लेतें हैं ....? 
_______________________



_______________________________


जबलपुर  के संगीतकार सुनील पारे
जी की ब्रिगेड के लिए खास पेश कश

____________________
बवाल  भाई  आपकी पोस्ट में हस्तक्षेप के लिए माफ़ करेंगे मैं चाहता हूँ 
आपकी पोस्ट  के ऊपर कोई पोस्ट तब तक न आये जब तक की आप के सुधि पाठक इधर  आ रहें हैं 
सादर :"मुकुल"

7 टिप्‍पणियां:

  1. बवाल जी यह इश्क है ही ऎसा...
    बहुत सुंदर लगी आप की यह रचना, चंद शव्दो मै बहुत कुछ कह दिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर चंद शब्दों मे इश्क की दास्तँ?जिसे शायरों ने कहने मे इतना विशाल साहित्य रच दिया। वाह । धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बवाल जी
    अच्छा लगा....

    एक पहलू और है....

    ज़ख्म न कुरेदो,
    जानेगी सारी दुनिया .
    बेवफाई उनकी,
    जिक्रे हयात मेरे ...

    - विजय

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह बवाल!!

    क्या खूब आये....

    अब तो पार्टी हो जाये...


    मय के साथ, मछली का कबाब
    तल निकला...तल निकला!!

    -चीयर्स!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. पारे जी को भी सुन लिया, बढ़िया.

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!