हिंदी ब्लागिंग पर हुए बेबाक :शरद कोकास [पोडकास्ट साक्षात्कार]

                                           छतीसगढ़ के साहित्यकार एवं हिन्दी ब्लागिंग के लिए एक ज़रूरी और  महत्वपूर्ण ब्लॉगर शरद कोकास से लम्बी बात चीत सुधि पाठको के लिए सादर प्रस्तुत है इस सुनने यहाँ चटका लगाइए
                                                                                                                         
मेरा फोटो
शरद कोकास ने अपने साक्षात्कार में हिन्दी ब्लागिंग पर् खुल   कर अपनी बात कही

 शरद  कोकस  से  साक्षात्कार 


कोकास जी के ब्लॉग लिंक


2 टिप्‍पणियां:

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!