नवगीत: पीले पत्तों की/पौ बारह, संजीव 'सलिल'

आज का गीत:

संजीव 'सलिल'

पीले पत्तों की
पौ बारह,
हरियाली रोती...
*
समय चक्र
बेढब आया है,
मग ने
पग को
भटकाया है.
हार तिमिर के हाथ
ज्योत्सना
निज धीरज खोती...
*
नहीं आदमी
पद प्रधान है.
हावी शर पर
अब कमान है.
गजब!
हताशा ही
आशा की फसल
मिली बोती...
*
जुही-चमेली पर
कैक्टस ने
आरक्षण पाया.
सद्गुण को
दुर्गुण ने
जब चाहा
तब बिकवाया.
कंकर को
सहेजकर हमने
फेंक दिए मोती...
*

7 टिप्‍पणियां:

  1. जुही-चमेली परकैक्टस ने
    आरक्षण पाया.
    सद्गुण कोदुर्गुण नेजब चाहा तब बिकवाया.
    कंकर को सहेजकर हमने फेंक दिए मोती...
    वर्तमान स्थिति को अच्छी तरह बयान कर दिया है ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही धारदार रचना। मोती फेंके जा रहे हैं और कंकरों को सहेजा जा रहा है। यही दुर्भाग्‍य है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जूही चमेली पर कैक्टस ने आरक्षण पाया। क्या बात है सर। बहुत उम्दा बहुत बेहतर।

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!