तेवरी: मार हथौडा, तोड़ो मूरत. -आचार्य संजीव 'सलिल'

तेवरी

आचार्य संजीव 'सलिल'

मार हथौडा, तोड़ो मूरत.
बदलेगी तब ही यह सूरत..

जिसे रहनुमा मन हमने
करी देश की उसने दुर्गत..

आरक्षित हैं कौए-बगुले
कोयल-राजहंस हैं रुखसत..

तिया सती पर हम रसिया हों.
मन पाले क्यों कुत्सित चाहत?.

खो शहरों की चकाचौंध में
किया गाँव का बेड़ा गारत..

क्षणजीवी सुख मोह रहा है.
रुचे न शाश्वत-दिव्य विरासत..

चलभाषों की चलाचली है.
'सलिल' न कासिद और नहीं ख़त..

************

3 टिप्‍पणियां:

  1. मार हथौडा, तोड़ो मूरत.
    बदलेगी तब ही यह सूरत..
    तोड दो सारी मुर्तिया, सब से पहले हाथी वाली फ़िर म.............

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!