मुक्तिका: .....डरे रहे. --संजीव 'सलिल'













मुक्तिका

.....डरे रहे.

संजीव 'सलिल'
*
हम डरे-डरे रहे.
तुम डरे-डरे रहे.

दूरियों को दूर कर
निडर हुए, खरे रहे.

हौसलों के वृक्ष पा
लगन-जल हरे रहे.

रिक्त हुए जोड़कर
बाँटकर भरे रहे.

नष्ट हुए व्यर्थ वे
जो महज धरे रहे.

निज हितों में लीन जो
समझिये मरे रहे.

सार्थक हैं वे 'सलिल'
जो फले-झरे रहे.

**************

8 टिप्‍पणियां:

  1. दूरियों को दूर कर
    निडर हुए, खरे रहे.
    ये ही आज किसी भी बदलाव को लाने में सक्षम हो सकता है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. छोटी बहर में मर्मस्पशी गजल....बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर !

    BADHAI AAP KO IS KE LIYE

    उत्तर देंहटाएं
  4. रिक्त हुए जोड़कर
    बाँटकर भरे रहे.
    नष्ट हुए व्यर्थ वे
    जो महज धरे रहे.
    बहुत ख़ूबसूरत और दिल को छू लेने वाली ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!