संगीत प्रेमियों कुछ कहना हो ब्लॉगर मीत से कह दीजिए

मीत

मीत जी का एतिहासिक ब्लॉग है इस ब्लॉग में वो सब कुछ है जो आज हम सब खोजते हैं । भारतीय संगीत को अन्तर जाल पे सजा कर समेकित करने वाले मीत जी यूनुस खान ,के पर्याय इस लिए नहीं कहे जा सकते की इन दौनों के बिना समेकन [एग्रीगेशन] कदाचित अधूरा होगा। सुर-संगीत से भरा मीत के ब्लॉग को पॉँच सितारा ब्लॉग कहा जा सकता है
अनिल बिस्वास (2)
अनुवाद (1)
अफ़शाँ (1)
अहमद फ़राज़ (1)
आबिदा (1)
आलम लोहार (1)
आशा भोसले (7)
इक़बाल बानो (3)
कबीर (1)
कवि प्रदीप (2)
क़व्वाली (1)
किशोर कुमार (3)
कुन्दन लाल सहगल (1)
कैफ़ी आज़मी (2)
गणेश बिहारी "तर्ज़' (1)
ग़ज़ल (16)
गाँधी (1)
गीता दत्त (1)
गुलज़ार (1)
गै़र फ़िल्मी गीत (24)
जगमोहन (1)
जयदेव (1)
जाँ निसार अख्तर (1)
जावेद अख्तर (1)
जिगर मुरादाबादी (1)
तलत महमूद (4)
दुष्यंत कुमार (2)
नीरज (1)
नुसरत फ़तह अली खा़न (2)
नूरजहाँ (1)
नैय्यरा नूर (1)
नज़्म (12)
पंकज मल्लिक (2)
फैज़ अहमद "फैज़" (3)
बस यूँ ही (7)
बेग़म अख़्तर (3)
भूले बिसरे गीत (12)
मदन मोहन (1)
मन्ना डे (5)
मास्टर मदन (2)
मीना कपूर (1)
मुकेश (1)
मुबारक़ बेग़म (1)
मुहम्मद रफ़ी (7)
मेरी आवाज़ में (22)
मेरी रचनायें (34)
रवि (1)
रामधारी सिंह "दिनकर" (7)
राशिद खा़न (1)
रौशन (3)
लता मंगेशकर (10)
शोभा गुर्टू (1)
सचिन देव बर्मन (1)
साहिर (5)
सी रामचंद्र (1)
सुदर्शन फ़ाकिर (1)
सुरेंदर कौर (1)
सुरैय्या (1)
हेमन्त कुमार (3)
होरी (1)
क़ता'त (7)
ग़ालिब (3)
फ़िल्मी गीत (32)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कँवल ताल में एक अकेला संबंधों की रास खोजता !
आज त्राण फैलाके अपने ,तिनके-तिनके पास रोकता !!
बहता दरिया चुहलबाज़ सा, तिनका तिनका छिना कँवल से !
दौड़ लगा देता है पागल कभी त्राण-मृणाल मसल के !
सबका यूं वो प्रिय सरोज है , उसे दर्द क्या कौन सोचता !!